गवना करवलअ ए हिर जी

0
687

गवना करवलअ ए हिर जी
अपने पुरुबवा गइलअ ए राम,,
गवना करवलअ ए हरी जी
अपने िवदेशवा गइलअ ए राम,,
जब जब याद आवे तोहरी सुरतीया
काटला से कटे ना इ बीरह के रितया
जीया छछनवलअ ए हरी जी
अपने बीदेशवा गइलअ ए राम…
कउनो सनेसवा ना पतीया पठवलअ
मोर िबरहीनीया के बड़ा तरसवलअ
रोवा डहकवलअ ए हरी जी
अपने पुरुबवा गइलअ ए राम…
गवना करवलअ ए हरी जी
अपने बीदेशवा गइलअ ए राम…

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

14 − ten =