टूटत बा बिश्वास के धग्गा

टूटत बा बिश्वास के धग्गा, बहुते जल्दी टूटत बा.
गैर लोगवा आपन होता, आपन लोगवा छूटत बा.

जरत बा रिश्ता के दिया अब मतलब का तेल से,
गरज न होखे पूरा त लोग बात-बात में रुठतबा.

घर के बात बतावल जाता दोसरा गावं के लोगसे,
तीसरा क चक्कर में पड़ के दोसरा के घर फूटत बा.

मत पूछी त बढ़िया होई, अब हमदर्दी के बात जी,
शादी अउर सराधे में अब हित नात भी जुटत बा.

केतना घर के चूल्हा चौका बिना जरले सूत जाला.,
कही पे लोगवा भोग-बिलास में लाखों रुपया छिटत बा.

कहे के लोग त आपन बा पर मन सेबा पराया जी ,
एह कलयुग में बाप के हाथे, बेटी के इज्जत लूटत बा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + two =