धरती के त नाप ही लेहम

0
348

धरती के त नाप ही लेहम,
गोड़ बढ़ावल बाकी बा।

आपन वसुधा के आगे ई,
दुनिया झुकावल बाकी बा।

गर ना होखे विश्वास अगर त,
सुन ल ए दुनिया वालन।

धरती त इ धरती बा,
अम्बर के हिलावल बाकी बा।

आपन भोजपुरी भाषा के अब,
दुनिया के बतावल बाकी बा।

इ बन जाई जन-जन के भाषा,
सम्मान सहित शीर्ष प बइठावल बाकी बा॥

————————————————————

जिन्दगी अब हो गईल अमावश के रात बा ।

नूर ए मंजिल खो गईल रास्ता अंजान बा ।।

जिन्दगी अब आवारा गर्दा बन के उड़ गईल ।

कुछ कदम के साथ से तहरो अहसान बा ।।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 7 =