पिया जबसे भइलें परदेसिया

0
380

पिया जबसे भइलें परदेसिया
भेजेंलें नाही कवनो संदेसिया
दुखवा सहाला नाही जीअल पहाड़ भइल!
सवतिन जिनिगिया कइसन हमार भइल!!…….२

अंखियाँ में छाइल काली बदरिया
सेजिया भयावन ओढ़ेलीं चदरिया
याद सपना के खातिर अब तुहार आइल!
सवतिन जिनिगिया कइसन हमार भइल!!…….२

जियरा में हूक उठल कइसे बताईं
पपिहा के कूक अब जइसे सुनाईं
प्रीत बरखा से भिगि,ओढ़नी हमार गइल!
सवतिन जिनिगिया कइसन हमार भइल!!…….२

मेघ से कहतानी बरसें घनघोर से
बिजली गिरा दे वहाँ जोर जोर से
जौने विदेशवा में पिया बसलें हमार गइल
सवतिन जिनिगिया कइसन हमार भइल!!…….२

दुखवा सहाला नाही जीअल पहाड़ भइल!
सवतिन जिनिगिया कइसन हमार भइल!!…….२

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − 10 =