हमनी के नस में ना बचल अब खून

0
348

हमनी के नस में ना बचल अब खून
नसे नसे देहिया में बहत अब पानी बा

चुहेड़ा चुहेड़ी बनी एने ओने भटकत
भारत के गौरव भोजपुरिया जवानी बा

जहा बुढवा बुजुर्ग गावे जवानी के गीत
उहा चुनरी आ चोली में भुलाइल रवानी बा

जहा धरती उपजत रहे सोना अउ चानी
आज कल के बबुवा बेचत उहा ताड़ी बा

@ पंकज प्रवीण

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − thirteen =