अँगुरी पकड़त-पकड़त पाहुँच पकड़ल

0
99

सिकार धीरे-धीरे फँसावल जाला। अँगुरी से सुख करिये के कहु के पाहुँच पकड़ल जाला। सुरू मे थोड़ा अधिकार जता के धीरे-धीरे अपना चतूराई से सवांग पर अधिकार कर लेवे वाला लोग के प्रति ई उक्ति कहल गइल बा।

धीरे धीरे केहू के कउनो सामान प आपन अधिकार जमवाल

SHARE
Previous articleअँगना में दू माँगना
Next articleअंडा सिखावे बच्चा के चेंव चेंव कर
जोगीरा डॉट कॉम भोजपुरी के ऑनलाइन सबसे मजबूत टेहा में से एगो टेहा बा, एह पऽ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के टटका ख़बर, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी किताब, भोजपुरी साहित्य आ भोजपुरी से जुड़ल समग्री उपलब्ध बा।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

6 + thirteen =