साँचो संस्कार भारती गाजियाबाद मे अन्हरिया मे हलचल भइल

0
85

संस्कार भारती अपना मासिक संगोष्ठी मे भोजपुरीके शलाका पुरुष आचार्य पाण्डेय कपिल के इयाद कइलस । संस्कार भारती के ध्येय गीत आ सरस्वती बंदना के बाद भोजपुरी कवि आ संस्कार भारती शास्त्रीनगर इकाई के अध्यक्ष जे.पी. द्विवेदी के संयोजन आ निर्देशन मे मुख्य अतिथि पूर्वाञ्चल भोजपुरी महासभा के अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव जी आ भोजपुरी कवि मनोज भावुक जी आचार्यपाण्डेय के चित्र पर माल्यार्पण कइले। फेर उहवाँ उपस्थित सभे कवि लोग आचार्यपाण्डेय के पुष्पांजलि अर्पित कइले ।

एह अवसर हिन्दी आ भोजपुरी के जवन संगम बनल , उ इयाद करे जोग रहे । आवे वाले 25 दिसंबर जवन भारत रत्न अटल बिहारी बाजपेयी आ भारत रत्न महामना मदन मोहन मालवीयजी जनम दिन पर सभे कवि लोग अपने कविता , गीत आ गजल से उनका के काव्यांजलि से ईआदकरी। शहर के भोजपुरी कवि जयशंकर प्रसाद द्विवेदी आचार्य पाण्डेय कपिल केव्यक्तित्व आ कृतित्व पर आपन बात रखले के बाद अपने भोजपुरी गीत “अन्हरिया मे हलचल भइल” से अटल जी आ महामना मालवीय जी के आपन काव्यांजलि दीहले । गोष्ठी मे करीब दूदर्जन कवि लोग अपने काव्य सरिता मे सभे के सराबोर कइले ।

भोजपुरी के सुविख्यात कवि मनोज भावुक जी आचार्य पाण्डेय कपिल के कई गो संस्मरण सुनवले । उनके “जीभ बेचारी का करी” जइसन कई गो दोहा , गीत आ गजल सुनवले। आचार्य पाण्डेय कपिल के बारे मे बोलत बेर मनोज भावुक जी उनके भोजपुरी केआचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के समकक्षखड़ा कइले । फेर अपने गजल “तनि तनि” से सभे के मोहे मे सफल रहने । उहवें मुख्यअतिथि अशोक श्रीवास्तव जी अपने भोजपुरी गीत से सभे के गुदगुदवले । अंतिम मे गोष्ठी के अध्यक्ष हिन्दी के वरिष्ठकवि महेश सक्सेना जी अपने गीत आ गजल से गोष्ठी के अपने चरम पर पहुंचा दीहले ।गोष्ठी के सफल संचालन अदरणीया डॉ तारा गुप्ता अंत तक सभे के बान्ह के राखे मेकामयाब रहनी । कुल मिला के ई कहल जा सकत बा कि संस्कार भारती के ई गोष्ठी ढेर दिनतक सभे के जेहन मे बसल रही।

लाल बिहारी लाल
वरिष्ठ साहित्यकार एंव पत्रकार
(दिल्ली, एन.सी.आर प्रभारी, पत्रकारिताकोश)

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 5 =