श्री पी राज सिंह जी के लिखल भिखारी ठाकुर के गाँव से लवट के

0
180

आंखो देखा हाल जननायक , महानायक , सास्कृतिक योद्धा अमर रंगकर्मी भिखारी ठाकुर जी के गांव से:

भाषा के अस्मिता ओह भाषा के बोलवाला समुदाय / समाज के अस्मिता से सीधा जुड़ल बा । लोक कलाकार भिखारी ठाकुर ना केवल भोजपुरी भाषा आ नाट्य कला के एगो नया ऊंचाई पर पहुंचवले बल्कि देश विदेश में बसल करोड़ों भोजपुरियन के एगो नया पहचान भी देहले । आज जब भी देश के बड़ बड़ शहरन में , राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में , दिल्ली के मंडी हाउस में , इंडिया हैबिटैट सेंटर आदि के मंचन से भिखारी ठाकुर के रचना के मंचन गायन होला , तब ई सन्देश भी जाला कि भोजपुरी मात्र अनपढ़ गँवारन के ही भाषा ना ह बल्कि एगो विकसित , सभ्य आ सुसंस्कृत आबादी के वाणी भी ह । एही कुल्हि कारणन से कुछ लोग भिखारी ठाकुर के भोजपुरी के शेक्सपियर , कालिदास आदि भी कहले बा । भिखारी ठाकुर के नाटकन आ गीतन में अपना समय के समाज के केवल रूप ही ना लउके , ओह में समाज के कुरीतियन के आलोचना भी लउकेला ।

आज जब भिखारी ठाकुर के गाँव राकेश कुमार सिंह आ उषा तितिकछु के साथे घुमे के इच्छा भईल त मन में एगो सुखद स्मृति रहे । राकेश जी लिंग हिंसा के खिलाफ जागरण खातिर साइकील से भारत भ्रमण पर निकलल बानी । उषा तितिकच्छू उनकर साथ देबे खातिर काठमांडू से साइकील से आईल बानी । मन में एगो सुखद एहसास के साथे साथे कई प्रकार के प्रश्न भी उथल पुथल करत रहे । कईसन होई भिखारी के गाँव ? भिखारी के घर परिवार में के के बा ? भिखारी के मरला के बाद उनकर कला के का भईल ? उनके गिरोह में से अब केहू बा की ना ?आज के समाज आ सरकार भिखारी के ऋण के के तरी चुकवले बा ? आदि आदि ।

डोरीगंज के बंगाली घाट भा तिवारी घाट से नाव से गंगा नदी के ओह पार गईला पर पहिलका गाँव कुतुबपुर भेंटाला । नावन पर आदमी ,माल मवेशी , साइकील मोटर साइकील , सब्जी दूध सभे लदाला आ सवारी भईले पर नाव खुलेली सन । एह घाटन से सोन के लाल बालू के एगो बड़ कारोबार होला । लगहीं बाएं आ दाहिने ओह पार गंगा आ सरजू के संगम भी बा । त्रिवेणी के कारण जल सम्पदा भरपूर बा । पेशा से फोटो पत्रकार उषा तितिकच्छू के कैमरा एह सब दृश्यन के कैद करे में रुकत ना रहे । शायद छपरा आ आरा के जोड़े वाला सड़क पुल के नाम भी भिखारी ठाकुर पुल राखे के प्रस्ताव बा । तैयार भ गईला के बाद हाजीपुर पटना के गांधी सेतु से भी ई बड़ पुल होई । पुल के काम लगभग पूरा हो आईल बा । नदी के बीच के दस गो पाया के जोड़े भर के काम बाकी बा ।

ओह पार नदी किनारे दायें एक की मी गईला पर पहिलका गाँव कुतुबपुर भेंटाई । गाँव में 6-7 गो फुस पलानी के एगो छोट बाजार बा । एक ओरि एगो चौताल बनल बा । एक कोना में भिखारी ठाकुर के संगमरमर के छाती भर के मूर्ति बा । सरकारी कृपा से स्थापित बनल एह भाग के गाँव के लोग आश्रम कहेला । मूर्ति एगो साधारण कलाकार के हाथ के ही बनल बा । मेंहीं कलकारी जवन बड़ बड़ शहरन में नेता लोग के मूर्ति में लउकेला ऊ ओह में नइखे । 18 दिसंबर के भिखारी ठाकुर के जन्म दिन के पटना से बड़ बड़ कलाकार लोग जुटेला आ गीत गवनई के कारक्रम होला।

एकरा अलावा हमरा अइसन कवनो चिन्ह ना मिलल जेकरा से बुझाव कि ओह गाँव , समाज के उन्नति खातिर सरकार चेतनशील बिया । गाँव में आज भी माटी के सड़क बा । कवनो सवारी बस छगड़ा गाँव से ना चले । गाँव के लोग आपन साधन से 4 की मी दूर बबुरा जाला । उहाँ से आरा जाये के सवारी मिलेली सन । जिला मुख्यालय छपरा आवे खातिर नाव के सहारा लेबे के परेला । नाव खातिर एगो स्वास्थ्य केंद्र बा जहां कबो डाक्टर ना आवस । लईकन के पढाई खातिर बगल के गाँव चकिया में वर्ग 5 तक खातिर एगो पाठशाला बा । बिजली त दूर के बात बा झुलत तार भी दूर दूर तक ना लउकल । ग्रामीण आपन उद्यम से चापाकल गाड़ के पानी के व्यवस्था कईले बाड़े । कहे के माने अजादी के 68 साल बाद भी प्रारंभिक स्तर के जे कवनो सुविधा कवनो भी गाँव में रहे के चाहीं ऊ कवनो नइखे एह गाँव कुतुबपुर में ।

भिखारी ठाकुर के वंशज में उनकर पोता राजिंदर ठाकुर थोड़े ठीक स्थिति में बाड़े । अभी लगभग सत्तर बरिस के बाड़े आ रेल से रिटायर कईला के बाद गाँवही में रहेले । बाकि सब लोग छोट मोट नोकरी व्यवसाय से केहू तारे भरण पोषण करेला ।

भिखारी ठाकुर के मंडली में से एकमात्र किशुनदेव शर्मा अभी जीवित बाड़े । किशुनदेव शर्मा से दू तीन गो गीत हमनी के हरमोनियम पर सुननी जा आ रिकॉड कईनी जा । भिखारी ठाकुर के सरबेटा प्रभुनाथ ठाकुर अबहियों नाच पार्टी चलावेले आ भिखारी के परम्परा के आगा बढ़ावे के कोशिश में लागल बाड़े बाकिर देह धाजा देखला पर इहे बुझाइल कि रोटी खातिर हांथ आ मुहँ के खेल में अझुराईल बाड़े । जुग आ समय बीतल । कसेट , टी वी आ बड़ बड़ बिजली से चले वाला वाद जन्तर के जमाना में साधनहीन कवनो भी लोक कलाकार के जवन दशा के कल्पना कईल जा सकेला ऊ साफ साफ प्रभुनाथ ठाकुर के देखला पर बुझा जात रहे । संग्रहालय के नाम पर राजिंदर ठाकुर के एगो छोट कमरा बा जवना में भिखारी ठाकुर के मिलल मानपत्र , पुरस्कार आदि फोटो के साथे देवाल पर टाँगल बा । भिखारी ठाकुर के फोटो में से दू तीन फोटो ही लउकल आ ऊ सब नेट उपलब्ध बाड़ी सन ।

कहल जा सकेला कि ई नेता लोग के भोजपुरी प्रेम देखावटी आ मौकापरस्ती के बढिया उदाहरण बा ।

श्री पी राज सिंह जी के , परिआर जाड़ा मे इंहा के भिखारी ठाकुर के गाँव कुतूबपुर गइल रहनी

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 4 =