भोजपुरी कविता – गरमी

0
83

गरमी बेसरमी ह
निदरदी ह
सुखा देला / ताल तलैया के पानी
हरियाली के निसानी
फुलवान के जवानी
बादल के कहानी / चोरा ले ला / कहीं ना
लउके ला तरान / फक फक परान / बून बून
पानी ला लोग हरान / परसान
गरमी पईसा के कठोर ह / टांगी नियर
गुमानी से उपजल गरमी / बड़ा कटीला ह
शुरू में ना बुझाला / ना पिराला
पोठइला पर दोसरा के संगे
अपने के जरा लेला
अपने के हरा लेला
बाकिर बुझाला ना / काहे कि
गरमी के चश्मा से कुछुउ / सुझाला ना
गरमी जवानियों में ह
उफ़नाला दूध नियर त
हलचल मचा देला
भाई बाबु के मरजी बिना
घरवा बसा लेला / नतीजा
जिनिगी नरक हो जाला
ना एनही के होला / न ओनही के
जईसे धोबी के कुत्ता ….

रचनाकार: संतोष कुमार, संपादक : भोजपुरी जिंदगी

SHARE
Previous articleअपना बलमा के जगावे सांवर गोरिया
Next articleइतराइल बा
जोगीरा डॉट कॉम भोजपुरी के ऑनलाइन सबसे मजबूत टेहा में से एगो टेहा बा, एह पऽ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के टटका ख़बर, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी किताब, भोजपुरी साहित्य आ भोजपुरी से जुड़ल समग्री उपलब्ध बा।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

3 + eleven =