कथाकार मधुकर सिंह

सुनील प्रसाद शाहाबादी जी के लिखल कथाकार मधुकर सिंह एक परिचय

२ जनवरी १९३४ गुलाम भारत के जिला मेदनीपुर बंगाल में जनमल बालक गुलामी के बेड़ी में कsसल भारतीय समाज मे गते गते होशगर होत...
धनंजय तिवारी जी

धनन्जय तिवारी के लिखल दहेज़

रात के सब केहू सुते के तैयारी करत रहे की तबहिये, मुरारी जी के मोबाइल के घंटी बाज उठल। सब केहू के अनायास ही...
देवठान के कहनी

शशि रंजन मिसिर जी के लिखल देवठान के कहनी

कार्तिक के महिना में हमार आजी रोज भिनसारे दुआर पर शिवाला के कुआं पे नहास, ओहिजे तुलसी जी के दीया बारस आ साथे गीतो...
गौरव सिंह जी

गौरव सिंह जी के लिखल स्वतंत्र भारत के झांकी

अभी तक हमनी के पहिला अध्याय 'राष्ट्र एकीकरण के चुनौती' के बारे में देखनी जा| एह अध्याय में हमनी के एह बात से अवगत...
शशि रंजन मिसिर जी

शशि रंजन मिसिर जी के लिखल अक्षय नवमी के कथा

अरे महाराज दम धरीं... कथवा त कहबे करब...बाकी बिना पान सोपाड़ी आ दक्षिणा लेले इ मिसिर बाबा के पोथी के पन्ना ना पलटाई ।कम...
ध्रुव गुप्त जी

ध्रुव गुप्त जी के लिखल भाग दलिदर भाग

बिहार और उत्तर प्रदेश के भोजपुरी भाषी क्षेत्र में दीवाली के पहले या बाद में घर से दलिदर भगाने की प्राचीन परंपरा है। गांव...
शशि रंजन मिसिर जी

शशि रंजन मिसिर जी के लिखल गोधन के बहाने

"बड़का भैया मर जास, उधिया जास ! हमार सब भाई मर जा स... कवनो भाई भतीजा के जरुरत नईखे, सब जाना मर-उधिया जास |"भोरहिं...
लोक आस्था का महापर्व छठ

लोक आस्था का महापर्व छठ, होती हैं सूर्य की उपासना

महापर्व छठ (Chhath Mahaparva) भगवान सूर्यदेव को समर्पित एक विशेष पर्व है। भारत के कई हिस्सों में खासकर यू.पी. और बिहार में तो इसे...
प्रभाकर पांडेय गोपालपुरिया जी

प्रभाकर पांडेय गोपालपुरिया जी के लिखल की अउर रावन जरि गइल!

हर सालि दसहरा में रावन जरावल जाला पर इ केइसन रावन बा की जरि के भी ना जरे। एक दिन रातिखान सुतत समय हमरी...
तिरिया चरितर के लिखल धनंजय तिवारी जी

धनंजय तिवारी जी के लिखल तिरिया चरितर

"तिरिया चरित्रम्,पुरुषस्य भाग्यम्,दैवो न जानसि"पंडिताई एगो विशिष्ट ज्ञान ह या ना पर इ एगो मनोविज्ञान जरूर ह, इ सोच पंडित भोला नाथ हमेशा मानेले।...
धनंजय तिवारी जी

धनंजय तिवारी जी के लिखल दुसरकी शादी

ऑटो से उतरते अमित के दीदी के फोन आ गईल. दीदी के फेरु उहे रट, कि दुसर शादी क ल. रिश्ता निमन आईल बा....
धनंजय तिवारी जी

धनंजय तिवारी जी के लिखल प्रेम धोखो ह

"महाराज प्रेम अउरी तपस्या में का अंतर बा?" हिमालय की चोटी पर कई बरिस तप कर के आईल महाराज कृपालु जी से उहाँ के...
कन्हैया प्रसाद तिवारी रसिक जी

कन्हैया प्रसाद तिवारी रसिक जी के लिखल लोकनी

रमेश के शादी शीला से हो गइल दुनो जाना एके कवलेज में पढ़त रहे लोग देखा देखी होत रहे बाकी दुनो जाना अपना कुल...
भोजपुरी के हजार बरिस

भोजपुरी के हजार बरिस : सदानन्द शाही

भोजपुरी के इतिहास हजार बरिस से पुरान हवे। भोजपुरी के लिखित रूप के उदाहरण बहुत पहिले से मिलेला।चौरासी सिद्धन के कविता में भोजपुरी के...
अमर शहीद मंगल पांडे जी

१८५७ के गदर के जनक अमर शहीद मंगल पांडे जी

" एगो बहाना चाहत रहे , करेजा मे धधकत आगि के बहरी निकले खाति बहाना , आगि जवन कई बरिस से धधकत रहे ओह...
भोजपुरी के शेक्सपीयर : भिखारी ठाकुर

भोजपुरी के अनमोल हीरा भिखारी ठाकुर जी के पुण्यतिथि प धनंजय तिवारी जी के...

"आजू भोजपुरी के अनमोल हीरा भिखारी ठाकुर जी के पुण्यतिथि बा, अब हमरा जईसन आदमी खातिर श्रद्धांजलि देबे के सबसे निमन तरीका बा...
श्री पी राज सिंह जी के लिखल भिखारी ठाकुर के गाँव से लवट के

श्री पी राज सिंह जी के लिखल भिखारी ठाकुर के गाँव से लवट के

आंखो देखा हाल जननायक , महानायक , सास्कृतिक योद्धा अमर रंगकर्मी भिखारी ठाकुर जी के गांव से:भाषा के अस्मिता ओह भाषा के बोलवाला...
भिखारी ठाकुर के वंशज

भिखारी ठाकुर के वंशज

दलसिंगार ठाकुर के दो पुत्र हुए- भिखारी ठाकुर और बहोर ठाकुर. भिखारी के एक ही पुत्र हुए-शिलानाथ ठाकुर. भिखारी ठाकुर के बाद उनके पुत्र...
पी राज सिंह जी

पी राज सिंह जी के लिखल यात्रावृतान्त तिबत में सरजू

तिबत के पुरान धर्मग्रंथन में सरजू के उदगम मोर के चोंच से बतावल बा । नदियन के उदगम अवसान के विंदु , ओर छोर...
पी राज सिंह जी

पी राज सिंह जी के लिखल यात्रावृतान्त नेपाल में सरजू

अवुसे त बचपने से हम सरजू के आपन गाँव से 7 की मी दूर सिसवन में , रिविलगंज / गोदना सेमरिया में , छपरा...

जोगीरा के साथ जुड़ी

15,565FansLike
15FollowersFollow
324FollowersFollow

टटका अपडेट