मेरे करियर की बड़ी फ़िल्म है “इश्क सूफियाना”: रीमा रामानुज

0
77

“कौन कहता है कि आसमान में सुराग नहीं हो सकता, एक पत्थर तबियत से उछालो यारों।”

हम बात कर रहे हैं प्रतिभाशाली, सर्वगुण संपन्न अभिनेत्री एवं पेशे से डॉक्टर “रीमा रामानुज” की जिन्होंने माता-पिता के सपने को पूरा करने के लिए अपने बचपन के ख्वाब को दर किनार कर दिया था। मगर अब माता-पिता की सहमति से अभिनय के क्षेत्र में करियर बनाने हेतु पूरी तैयारी कर लिया है। आइये रीमा रामानुज से बात करते हैं

प्रश्न – रीमा ! सबसे पहले आप परिचय बताइये ?
रीमा रामानुज – मैं भावनगर, गुजरात की मूल निवासी हूँ। मैं डेन्टिस हूँ और पिछले एक साल से मुम्बई में रह रही हूँ। मेरे पापा यतिन रामानुज सफल व्यवसायी हैं एवं मम्मी धार्मिक प्रवृत्ति की घरेलू महिला हैं। मम्मी पापा का सपना था कि मैं डॉक्टर बनूँ इसलिए मैंने पहले डॉक्टरी की पढ़ाई पूरी किया। अब डॉक्टर बनने के बाद जब मैंने मम्मी पापा से अपने अभिनय के क्षेत्र में करियर बनाने की बात किया तो वे मान गये।

प्रश्न – फिल्मों की ओर आपका रुझान कैसे हुआ ?
रीमा रामानुज – बचपन से ही स्कूल – कॉलेज में फैशन शो, कोरियोग्राफी तथा एंकरिंग किया करती थी। डॉक्टर बनने के बाद भी अभिनय के प्रति लगाव कम महीन हुआ था। जब भी फुर्सत के क्षण मिलते हैं थियेटर किया करती हूँ। मुझे लगा कि अभिनय में भी करियर बनाना चाहिए , जब मैंने मम्मी – पापा से बात किया तो उन्होंने फ़ौरन हाँ कर दिया।

प्रश्न – इश्क सूफियाना आपकी पहली फ़िल्म है, इसमें कैसे मौका मिला आपको ?
रीमा रामानुज – 300 लड़के – लड़कियों के ऑडीशन के दौरान फ़िल्म निर्माता – सुरजीत सिंह, फ़िल्म निर्देशक अभिन्न – मन्थन और कास्टिंग डायरेक्टर ने मेरा चयन मुख्य नायिका के लिए किया। जब मैंने अपना पावरफुल किरदार सुना तो मैंने तुरंत हाँ कह दिया।

प्रश्न – आपका किरदार क्या है ?

रीमा रामानुज – मेरा किरदार दो शेड्स में है जो कि बहुत ही चैलेंजिंग है। एक तरफ मैं साधारण लड़की की भूमिका में हूँ तो दूसरी तरफ मॉडर्न गर्ल के किरदार में हूँ। मेरी खुशनसीबी है कि मुझे पहली ही फ़िल्म में अपने किरदार में तरह तरह के रंग में रंगना है जो दर्शकों को भी बहुत पसंद आएगा।

प्रश्न – फ़िल्म के निर्माता तथा निर्देशक के बारे में क्या कहना चाहती हैं आप ?

रीमा रामानुज – फ़िल्म के निर्माता सुरजीत सिंह बहुत ही नेक इंसान हैं। फ़िल्म के निर्देशक अभिन्न – मन्थन बड़े ही सुलझे हुए निर्देशक हैं, जो तकनीकी रूप से एक अच्छी फ़िल्म बनाने जा रहे हैं। फ़िल्म के निर्माता निर्देशक की जितनी भी तारीफ़ की जाये कम होगी।

प्रश्न – दर्शकों से क्या कहना चाहती हैं आप ?
रीमा रामानुज – यह मेरी पहली फ़िल्म है। मुझे फ़िल्म इंडस्ट्री और दर्शक स्वीकार करें। हमारी फ़िल्म एक अनोखी लव स्टोरी है और मुझे पूर्ण विश्वास है कि सिनेप्रेमी ज़रूर पसंद करेंगे।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

19 + fourteen =