केहू मन पड़ल : भोजपुरी कविता संग्रह

0
130

“केहू मन पड़ल ” में जरत-बरत समकालीन जिनिगी के जियतार तस्वीर उकेरल गइल बा। संग्रह में दस गो गीति-रचना बाड़ी स, जवना में एह नामी-गिरामी के चुनिंदा गीत, ग़ज़ल, दोहा आ मुक्त छंद के समकालीन कविता संग्रहित बड़ी स।

चाहे गीत होखे भा गजल, दोहा होखे भा मुक्त छंद-कवी भाषा सवारी करत चलत बा आ भोजपुरी के खाँटी शब्दन, मुहावरन के चटख इस्तेमाल रचनन के पानीदार आउर जानदार बना देले बा।

बिसवास बा, तंग इनायतपुरी के भोजपुरी काव्य-साधना के समुंदर से अलग अलग छंदन में से बिनल – बिछल मोतियन के जवन संग्रह “केहू मन पड़ल ” पेश कइल गइल बा, ऊ पढ़निहार आ गुननिहार के मन के मोहि ली आ एकर सार्थक आउर सकारात्मक मूल्यांकन होइ।

लेखक: तंग इनायतपुरी
केहू मन पड़ल: भोजपुरी कविता संग्रह

“केहू मन पड़ल: भोजपुरी कविता संग्रह” डाउनलोड करे के खातिर क्लिक करी

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

6 + 20 =