केतना बेर : भोजपुरी गीत संग्रह

0
132

केतना बेर के लेखक की ओर से

ई पैसठ गो गीत परोसत हम एक बेर फेरु सुधियन का भँवरजाल में अझुरा के रह गइल बानी। सुख आ दुख के मीठ-तीत छुअन, हरिअरा गइल बा आ केतना बेर लेखा फेरु ओह सबका भीतर से गुजर जाए के मन खुदबुदाये लागल बा; जवना में अनसोहातो कबो काट गड गइल रहे, कबो ठोकर लागल रहे, कबो गुदगुदी बुझाइल रहे भा कवनो गंद बेसुध कर दिहले रहे।

गीत के रचना आ ओकरा संकलन खातिर जेकर – जेकर हमरा टोकरी मिलल, प्यार दुलार मिलल, सलाह -इसलाह मिलल ओह सब के ईहाँ नावँ गिनवा के हम अपना के भारमुक्त करे के नइखी चाहत। प्रभु से प्रार्थना बा कि ऊ सभे हमरा आँतर में ओइसही रसल बसल रहे।

लेखक: पी. चंद्रविनोद
केतना बेर : भोजपुरी गीत संग्रह

“केतना बेर:भोजपुरी गीत संग्रह” डाउनलोड करे के खातिर क्लिक करी

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + 6 =