मलिकाईन आईल बाड़ी

0
192
मलिकाईन आईल बाड़ी
मलिकाईन आईल बाड़ी

दिन भर महभारत बांचेली !
हमरी कपार पर नांचेली !
अपनी मांगन पर अड़ जाली !
जे मना करी हम लड़ जाली !
कहें हमसे कि जीन्स ले आव, हम
नाही पहिनेलीं साड़ी !
नवहा नवहा हमरा घर में, मलिकाईन आईल बाड़ी !

घरवाके होटल जानेली !
हमराके वेटर मानेली !
पेप्सी कोला बीयर पीएं !
पॉपकोर्न आ चिप्स प जीएं !
रोटी तरकारी रुचे ना, हमरासे मांगे
बिरयानी !
नवहा नवहा हमरा घर में, मलिकाईन आईल बाड़ी !

पचहत्तर गो क्रीम मंगावें !
सब पईसा में आगि लगावें !
हमरो के कुछ बाति बतावें !
टेढ़ आँखि कइके समझावें !
कहें हमके, “क्लीन हो जाओ, क्यों रखते ये
घटिया दाढ़ी !”
नवहा नवहा हमरा घर में, मलिकाईन आईल बाड़ी !

एकदिन काम से अइनी जब !
खूब ऊ सेवा कईली तब !
लगनी सोचे ई का होता !
कउवा कईसे बनल तोता !
सोचत रहनी तवले कहली, “राजा,
हमको चहिए गाड़ी !”
नवहा नवहा हमरा घर में, मलिकाईन आईल बाड़ी !

नखरा कि उनकर एतना बा !
गीनि ना पाईं केतना बा !
जेतने होखो सब ठीक बा !
जईसन होखो सब नीक बा !
काहें कि हमरी मनवा में त, बस ऊहे समाईल बाड़ी !
नवहा नवहा हमरा घर में, मलिकाईन आईल बाड़ी !

सांभर: भोजपुरी गीत गजल गवनई फेसबुक ग्रुप

SHARE
Previous articleगरीबी
Next articleशनिचर
जोगीरा डॉट कॉम भोजपुरी के ऑनलाइन सबसे मजबूत टेहा में से एगो टेहा बा, एह पऽ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के टटका ख़बर, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी किताब, भोजपुरी साहित्य आ भोजपुरी से जुड़ल समग्री उपलब्ध बा।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 3 =