सुनील प्रसाद शाहाबादी जी के लिखल पुर्वांचल के दुःख

0
67

मोतिहारी गोपालगंज सिवान सतकार
छपरा के मीठ पानी-आरा कड़ियार।

निहाल बक्सर बलिया-निरमल गंग धार
गहमर वीर सैन्य सपूत -संग साहितकार।

बदलल मजदूरी में गते गते किसानी,
आजमगढ़ देवरिया-गोरखपुर बेमार।

बन्हक गुजरात के-काशी बिसनाथ,
ठग बनारस आप ठगाइ बइठल बा यार।

गाजीपुर आ चंदोली-भदोही भी भूखा,
मिर्जापुर सोनभद्र भी चाटत बा आचार।

बस्ती जौनपुर खीर आ मऊ बहराइच
आ बसल पंजाब में सहे सोसन अपार।

इलाहाबाद प्रयाग मे-कहाँ अब उ आग
जहाँ से देश भर में -बनत रहे बेयोहार।

प्रतापगढ़िया एक ही -कहाउत ही रहल
अब त मरत एक के-देखे मिलके चार।

पढ़ल लिखल कर गइलें इहाँ से पलायन
दोसर राज में जोह ले लें आपन अधिकार।

बाहुबली गुंडन के हाथे-सता के लगाम
खाड़ भासा भोजपुरी द्रोपदी अस उघार।

ना पांडव कृष्ण सभा मे-के चिर चढ़ाओ
नोचे उ नेता बने -कर वानी बलतकार।

जात घात क पोंछ लमहर-लटकाई फिरेला
संस्कृति सभ्यता बीच-खाड़ करे देवार।

झोटा झोटी दे ले लंगड़ी इहाँ बड़ा प्रसिध
पुर्वांचल के खेल इहे बा कहीं का सरकार।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

five + seven =