Tags कहनी गढ़त मनई

Tag: कहनी गढ़त मनई

कहनी गढ़त मनई

कहनी गढ़त मनई छरका से सार ले दुआर घूरे तक बहारत, झंखत जिनगी में लागल उढुक से उठ के संभरे में ढमिलात हिरिस से मातल मनई | गुरखुल के दरद बंहटियावत नादी में...

जोगीरा के साथ जुड़ी

1,164FansLike
9FollowersFollow
243FollowersFollow

टटका अपडेट