वाह! रे चिरईयाँ

0
108

वाह! रे चिरईयाँ तोहर,कईन नसीब बा?।
उडी चली जाए उहवे,जहवासे प्रित बा।।….१

रोजे रोजे खोता बदले,रोजे रोजे ठाव हो।।
राखे जमिनियाँ पर, कभी कभार पाव हो।

बनावे ठेगाना सुन्दर,लागे जवन गाँव हो।।
बसमे तोहरा दुनियाँ के,सगरी चिज बा…….२

बुढवाँ लईकवन तहरा से ,प्यार बहुते करे।
केहु खियावे दाना, केहु पंख पकडे।।

केहुसे बैर नाही केहुसे मित(प्रित,टिस) बा…………३

दुश्मनसे हसी हसी बात करेके, ना तहे जरुरी।
बाटे नाही बन्धन कवनो,नाही कवनो मजबुरी।।

कर सरहद ओहरदोहर निश दिन उडी उडी।।
चले खातिर रहियाँ,नाही कवनो लीख बा…………४

डा. रबि भूषण प्रसाद चौरसिया

SHARE
Previous articleमाई के अंचरा मे
Next articleअकबर बीरबल के कहानी
जोगीरा डॉट कॉम भोजपुरी के ऑनलाइन सबसे मजबूत टेहा में से एगो टेहा बा, एह पऽ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के टटका ख़बर, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी किताब, भोजपुरी साहित्य आ भोजपुरी से जुड़ल समग्री उपलब्ध बा।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

four × 4 =