Home आलेख

आलेख

भोजपुरी लेखक सभ के भेजल भोजपुरी आलेख के संग्रह कइल गइल बा।

जोगीरा डॉट कॉम के ई सतत प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव,

अगर रउवा येह पेज के पढ़ रहल बानी त रउवा सब से निहोरा बा की आपन रचना जोगीरा के जरूर भेजी, हमनी के बड़ी खुसी मिली राउर रचना अपना वेबसाइट प जोड़ के।

भोजपुरी साहित्य आ भासा के प्रसार खातिर।

बिहार दिवस : पुरनका गरिमा आ प्रतिष्ठा कब मिली

बिहार दिवस : पुरनका गरिमा आ प्रतिष्ठा कब मिली

बिहार दिवस, आजुये के दिन 22 March 1912 में बंगाल से बिहार अलगा भइल रहे आ एगो नाव राज्य के दर्जा मिलल रहे ।...
भोजपुरी के मशहुर आ पुरबी के सम्राट महेंदर मिसिर

भोजपुरी के मशहुर आ पुरबी के सम्राट महेंदर मिसिर : रमा शंकर तिवारी जी

जन्मतिथि - 16 मार्च 1886 पुण्यतिथि- 26 अक्टूबर 1946 जन्म स्थान- ग्राम-मिश्रवलिया, प्रखंड-जलालपुर, सारण पहलवानी कईला से कसल देहि , चमकत लिलार , देहि पे सिलिक के...
विवेक सिंह जी

अनन्त : एगो हुँकार

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव विवेक सिंह जी के लिखल अनन्त : एगो हुँकार, पढ़ीं आ आपन...
बथुआ

संगीत सुभाष जी के लिखल आलेख बथुआ

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव संगीत सुभाष जी के लिखल भोजपुरी आलेख बथुआ, पढ़ीं आ आपन राय...
रामचन्द्र कृश्नन जी

भोजपुरी लोक गीतों में हंसी मजाक : रामचन्द्र कृश्नन

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प , रउवा सब के सोझा बा रामचन्द्र कृश्नन जी के लिखल भोजपुरी आलेख भोजपुरी...
रामचन्द्र कृश्नन जी

रामचन्द्र कृश्नन जी के लिखल भोजपुरी आलेख गीतन में गारी

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प , रउवा सब के सोझा बा रामचन्द्र कृश्नन जी के लिखल भोजपुरी आलेख गीतन में...
दतुअन

संगीत सुभाष जी के लिखल आलेख दतुअन

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव संगीत सुभाष जी के लिखल भोजपुरी आलेख दतुअन , पढ़ीं आ आपन...
लौंडा नाच

लौंडा नाच

दोस्तों नमस्कार ! जोगीरा डॉट कॉम पे आपका स्वागत हैं। आज हम पढ़ेंगे और जानेंगे पूर्वांचल और बिहार में प्रसिद्ध लौंडा नाच के...
एस डी ओझा जी

पूर्वांचल की बारात : एस डी ओझा

परनाम ! आप सभी का जोगीरा डॉट कॉम पे स्वागत है। आज हम पढ़ेंगे एस डी ओझा जी का लिखा एक बेहतरीन आलेख पूर्वांचल...
गणेश नाथ तिवारी "विनायक" जी

महाकवि स्वर्गीय राधामोहन चौबे “अंजन जी” के पुण्यतिथि ह आज : गणेश नाथ तिवारी...

हमार सौभाग्य बा की 2014 में हमार राधामोहन चौबे "अंजन जी" से भेंट भइल रहे ,उहा से मिल के बहुत अच्छा लागल बहूत प्रभावित...
महामना अंजन जी

भोजपुरी के भवभूति अंजन जी के आज पाँचवाँ प्रयाण दिवस : संगीत सुभाष

कविकुल शिरोमणि, भोजपुरी के भवभूति, मनीषी, चिंतक, नस-नस में सर्वधर्म समभाव आ भोजपुरी के अनेकन अमर गीतन के रचयिता महामना अंजन जी के आज...
मणि बेन द्विवेदी जी

सरस सलिला माँ गंगा : मणि बेन द्विवेदी

आज हम अपना उ माई का बारे में बतावे जा तानी, जे हमनी के जनम त ना देली बाकिर यह धरती पर के मनुष्य...
एस डी ओझा जी

कहां गये जांत और वो जंतसार गीत : एस डी ओझा

बचपन मेरा गांव में बीता था । उस समय तक बहुत कम लोग गेहूं पीसाने के लिए आटा चक्की जाते थे । उस दौर...
सन्तोष पटेल जी

भोजपुरी एगो सोगहग भाषा हीय

भोजपुरी हिंदी के बोली हिय, लइकाइयें से सुनल-पढ़त आवत बानी। बहुत भाषाविद बानी लो विशेषकर हिंदी भाषा से जुड़ल, उहां सभे भोजपुरी के बोली...
डॉ आशा रानी लाल

भोजपुरी कथा साहित्य के मजगूत खम्हा डॉ आशा रानी लाल : संतोष पटेल

भोजपुरी साहित्य में महिला कलमकार के बहुत कमी रहे ओकर कारण बा। पूरा भोजपुरी पट्टी का, आपन देश में सगरो नारी लोगन के शिक्षा...
राजेश भोजपुरिया जी

भोजपुरी के गौरव पंo गणेश चौबे : राजेश भोजपुरिया

पंo गणेश चौबे जी के जनम 5 दिसम्बर 1912 ईo के उहा के ममहर गाँव साँढा डम्मर,जिला - मुजफ्फरपुर में भइल रहे। भोजपुरी भाषा, साहित्य,संस्कृति...
सन्तोष पटेल जी

आधुनिक भोजपुरी के पहिल कवि-पंडित श्याम बिहारी तिवारी उर्फ देहाती जी : सन्तोष पटेल

भोजपुरी साहित्य के नवजागरण काल के कृष्णदेव उपाध्याय, पंडित गणेश चौबे डॉ रिपुसूदन श्रीवास्तव आ प्रो गदाधर सिंह 'आधुनिक काल' कहले बानी। उहे डॉ...
जनकदेव जनक जी

हमरा नजर में प्रो वैद्यनाथ विभाकर जी, भोजपुरी साहित्य के एगो अनमोल हीरा :...

अचार, विचार आ बेवहार में कुशल प्रो वैद्यनाथ विभाकर जी के छवि हमरा दिल के आइना में झलकत बाटे, उहां लेखा स्वाभिमानी, निरभिमानी...
श्री महेंद्र प्रसाद सिंह जी

भोजपुरी रंगकर्म संस्था रंगश्री आ संस्थापक श्री महेंद्र प्रसाद सिंह

भोजपुरी भाषा (Bhojpuri Bhasa) आ साहित्य के संवर्धन आ प्रचार प्रसार में कई गो भोजपुरिया अपना स्तर से लागल बाड़े। कई लोग भोजपुरी आंदोलन...
अमरेन्द्र जी

गोधन : एगो लोक परब

गोधन आने कि गउ माता के काया से जनमल संतति आ संपति। आजु भले हमनी के गाँव-नगर में रहत बानी जा, बाकी मानुख सभ्यता...