अबरा के मेहरारू गाँव भर के भउजाई

कमजोर के मेहरारू से सभे माज़क करेला। अइसन बुझाला जे सारा समाज ओकर देवर लागत होखे आ ओसे माज़क कइल आपन अधिकार बुझात होखे। ओकर पति जदि सबल होइत त दोसर लोग ओकरा मेहरारू से मज़ाक से डेराइत। दूबर भइल से केहू ओकरा मेहरारू के कुछ गुदानत नइखे। कहल जाला, लोग त लोग, कमजोर के दइबो सतावेलन।

कमजोर के समान, चीज प सब केहू आपन हक जतवेला।

रउवा खातिर:
भोजपुरी मुहावरा आउर कहाउत
देहाती गारी आ ओरहन
भोजपुरी शब्द के उल्टा अर्थ वाला शब्द
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पहिलका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : दुसरका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : तिसरका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : चउथा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पांचवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : छठवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : सातवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : आठवाँ दिन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − 14 =