रामचन्द्र कृश्नन जी के लिखल भोजपुरी बाल कथा डोकी डोका

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, रउवा सब के सोझा बा रामचन्द्र कृश्नन जी के लिखल भोजपुरी बाल कथा डोकी डोका , पढ़ीं आ आपन राय जरूर दीं कि रउवा इ भोजपुरी बाल कथा कइसन लागल आ रउवा सब से निहोरा बा कि एह कहानी के शेयर जरूर करी।

एक रहली डोकी आ एक रहले डोका,डोका मरले डोकी रिसिया के चल दिहली, जाते जाते एक ठो बरगद परल, बरगदवा कहलस ये डोकी हमरे घरेलू रहबू, डोकी कहलि का खिअइब कहां सुतइब का ओढइब, बरगदवा कहलस गोदा खिआइब पत्ता बिछाइब पात्ता ओढाइब, डोकी कोहली तब तुहरे घरे नाई रहब, फेर जाते जाते एक ठो बकुला भेटाइल बकुलवा कहलस ये डोकी हमरे घरे रहबू ।

डोकी कहली का खिअइब का बिछइब का ओढइब। बकुलवा कहलस मछरी खिआइब, लेडई बिछाइब लेडई ओढाइब, डोकी कहलि तब तुहरे घरेलू नाई रहब।

फेर जाते जाते एक ठो मूस भेटाइल मूसवा कहलस ये डोकी हमरे घरे रहबू, डोकी कहलि का खिअइब कहां सुतइब का ओढइब मूसवा कहलस दाल भात खिआइब घरमे सुताइब रजाई ओढाइब, डोकी कहली तब तुहरे घरेलू रहब।

भोजपुरी किताब पढ़ें भा डाउनलोड खातिर क्लिक करि

रामचन्द्र जी
रामचन्द्र जी

एक दिन डोकी भात बनावत रहलि त पानी घटि गइल । डोकी कहलि ये मूस हम पानी के जात बाटी आ तू भात जनि चलइह नाई ते जरि जइब।डोकी पानी के चलि गइलि आ मूस का कइले केवाड़ी के किल्ली बन्न‌‌‌ कके भात चलावे लगले। बस का भइल बटुला मे गिर गइले आ जरि के मरि गइलें।

जब डोकी पानी लेके अगली ते चिल्लाति हई कि ये मूस केवडिया खोल,मूस ते मरि गइल रहले ,बोले कइसे ,डोकी गइली लोहार बोला के ले अइली आ केवाड़ी खोलवली ते देखति हई कि मूस बटुला में गिर के मरल हवें ,तब लगली रोवें आ का कहति हई।

वर छोडली बरगदवा छोड़ली तलवा भर बकुलवा छोडलीं हाय मूस हाय मूस, इहें कहि कहि लगली रोवे।

रउवा खातिर:
भोजपुरी मुहावरा आउर कहाउत
देहाती गारी आ ओरहन
भोजपुरी शब्द के उल्टा अर्थ वाला शब्द
जानवर के नाम भोजपुरी में
भोजपुरी में चिरई चुरुंग के नाम

Leave a Reply