देहाती कहावत और मुहावरा : चउथा भाग

देहाती कहावत और मुहावरा
देहाती कहावत और मुहावरा

जोगीरा डॉट कॉम के लगातार सार्थक कोशिश रही कि आपन गौरवशाली अतीत के फेर से परिभाषित कऽ के भोजपुरी के छवि के आपन देस के साथे-साथ दुनिया के बाकी हिस्सा में भी पुनर्जीवित कईल जाव। ई काम में रउरा सब के सहयोग के साथ जरुरी बा, एह से रउरा सभे से निहोरा बा की “जोगीरा डॉट कॉम” से जुड़ी आ आपन भासा भोजपुरी के आगे बढ़ावे में टीम जोगीरा के मदद करीं।

जोगीरा डॉट कॉम के ई सतत प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव, एह कड़ी के आगे बढ़ावत जोगीरा लेके आइल बा भोजपुरी मुहावरा आ देहाती कहावत, जहा प रउवा भोजपुरी मुहावरा के बारे में पढ़ेब और ओकरा बारे में जानेब ओकर अर्थ के साथ।

देहाती कहावत और मुहावरा | Bhojpuri Idioms with meaning

  1. कउआ हँकनी बनावल – बेचैन किये रहना, इज्जत न देना
  2. कतराइल – कन्नी काटना, पिण्ड छुड़ाना, मुँह मोड़ना
  3. कनैठी लगावलकान ऐठना, सजा देना
  4. कपार धूनल – सिर पिटना
  5. कपार पर चढ़ल – मन बढ़ना
  6. कपारे हाथ – चिंता में
  7. करम फूटल – दुर्भाग्य
  8. करम में आग लागल– विपत्ति, अभाग्य
  9. करम में लेंढ़ा लागल – कर्म करने पर भी फल नहीं मिलना, सफलता नहीं मिलना
  10. करेजा काढ़ के देहल – दिल खोलकर मदद करना
  11. करेजा फाटल – अतिशय दु:खी होना
  12. करेजा में लगल – दु:ख होना, किसी बात की चोट लगना
  13. कवन मुँह लेके जाएब – ऐसा काम जिसके प्रत्यक्ष होने पर शर्म लगे
  14. कसाई के कुत्ता – लालची पिछलग्गू
  15. काँची काढ़ल– पीटना, मारना
  16. काँचे नींद – पहली नीद
  17. काँन फूँकल – चेला बनाना
  18. कांची निकालल – आहिन करना, कूटना, पीटना
  19. काजर से आँख भारी – सुकुवार

रउवा खातिर :
भोजपुरी मुहावरा आउर कहाउत
देहाती गारी आ ओरहन
भोजपुरी शब्द के उल्टा अर्थ वाला शब्द
भोजपुरी शब्द संरचना
भोजपुरी में चिरई चुरुंग के नाम
जानवर के नाम भोजपुरी में
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पहिलका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : दुसरका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : तिसरका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : चउथा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पांचवा दिन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 − 14 =