भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री के ताज़ा हालात : अभिषेक तिवारी

भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री के ताज़ा तरीन हालातों के बारे में यही कहना चाहूंगा कि अभी हालात ये हैं कि आप शेयर खरीद रहे हैं और कंपनी आपको छोटे अक्षरों में कह रही है कि Investment are subject to market risk.

अब आइए इसको थोड़ा डिटेल में समझते हैं । कल मेरे एक खास दोस्त ने ( जो कि हिंदी फिल्मों में आजकल अच्छे मुक़ाम पर हैं ) भोजपुरी फ़िल्म में इन्वेस्टमेंट के बारे में मुझसे ही पूछ दिया –
उनका सवाल था – अभिषेक अभी मैं एक मीडियम स्टारकास्ट को लेकर भोजपुरी फ़िल्म बनांगा तो मुझे थियेटर रिलीज़ से कितना रिकवरी हो सकता है ?
मैं बड़े उधेड़बुन में पड़ गया ,
फिर मेरा सवाल था – आपका मेकिंग बजट कितना होगा ?
वो बोले – 50 लाख ,

भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री के ताज़ा हालात : अभिषेक तिवारी
भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री के ताज़ा हालात : अभिषेक तिवारी

उन्होंने साफ शब्दों में ये कहा कि बड़े सुपरस्टारों को लेकर बनाने में जो एक से डेढ़ करोड़ का इन्वेस्टमेंट होगा उतने में तो एक छोटी और बेहतरीन हिंदी फिल्म बन जाएगी और अच्छी खासी रिकवरी देकर जाएगी । और दूसरी बात की सुपरस्टारों की जितनी फीस है उतने में तो फ़िल्म की 20 दिन की मेकिंग बड़ी ही अच्छे से हो जाएगी । फिर मैंने उनसे यही कहा कि – रुकिए अभी मार्केट से कुछ लोगों से बात करके थियेटर की रिकवरी के बारे में बताता हूँ ।

फिर मैंने लगभग सात आठ लोगों को कॉल किया और उनसे थियेटर की होने वाली कमाई के बारे में सीधा सवाल किया । सबने एक ही बात बताया कि आज की तारीख में 10 लाख तक भी अगर ऑल इंडिया की डील मिल जाए तो आप उसे सेल कर दीजिएगा ।
जवाब सुनकर मैं सन्न रह गया !
फिर मैंने अपने मित्र को सामने से यही वस्तुस्थिति से हूबहू रूबरू करा दिया और उनको उनके विवेक से सोंच समझकर फैंसला लेने के लिए छोड़ दिया ।
क्यों ?
क्योंकि आज की वस्तुस्थिति यही है कि आप मेकिंग में यदि 50 लाख भी लगाते हैं तो आपकी रिकवरी शून्य बटा सन्नाटा ही है । क्योंकि इनलोगों की डिजिटल राइट्स अधिकतम 25 से तीस लाख में बिकेगी , और थियेटर से 5 से 7 लाख में , फिर बाकी का रिकवरी आप कहाँ से करेंगे ?
कुछ लोगों ने यह कहा कि उत्तर प्रदेश और झारखंड से सब्सिडी मिलेगी !
तो क्या हम फ़िल्म सब्सिडी की कमाई के लिए बना रहे हैं ?
तो फिर भी कितनी सब्सिडी ?
भोजपुरी फिल्मों की फिक्स सब्सिडी है 25 लाख !
मान लीजिए कि इतना भी मिल गया फिर भी आप 50 लाख रुपया इन्वेस्ट करके यदि 55 लाख का बिजनेस 6 महीने में कर रहे हैं तो यह कहाँ की बुद्धिमानी है ? वो भी पूरी टेंशन के साथ ।

अब आते हैं लागत के रूप में कैसे इन्वेस्टमेंट होगा । तो स्टार लोगों की डिमांड है 8 से 10 लाख , अब उनसे यदि कोई यह कहता है कि रिकवरी नहीं है इतने की तो वे सतहत्तर किस्म का नखड़ा करने लगते हैं । कि नहीं केवल बिहार से ही 15 लाख की रिकवरी है , अब जब 15 लाख की रिकवरी बिहार से ही है तो एक दिक्कत ये भी है कि वे स्टार खुद बिहार की टैरिटरी को अपने फीस की बदौलत रखने के एवज में तैयार भी नहीं होते । फिर काहे की रिकवरी ? जब आपको खुद अपनी स्टारडम वाली फिल्म के बिकने का भरोसा ही नहीं है तो आप किस मूंह से 10 लाख की डिमांड कर रहे हो बेशर्मों ?
फिर आते हैं बजट के अगले सेगमेंट पर तो बाकी की कास्टिंग भी लगभग 5 लाख मान लीजिये और फिर गीत संगीत का कम से कम ढाई से तीन लाख । बाकी पोस्ट प्रोडक्शन का 5 लाख , निर्देशन , लाइट , कैमरा , डीओपी और ऑन लोकेशन खर्चा को मिलाते रहिए आप ! जब इतनी मगजमारी के बाद भी अपना 50 लाख लुटा पीटा देते हैं फिर डिस्ट्रीब्यूटरों के दलालों को तेल लगाइए की कोई किसी डिस्ट्रीब्यूटर को पकड़ कर लाये और आपकी फिल्म का अच्छा रेट दिलाए । जब इतना होने के बाद आपको उपरोक्त कठिनाई का सामना करना पड़े तो ख़ुदा ख़ैर करे कि अब कोई कैसे फिल्में बनाएगा ।

फिर भी अभी कुछ लोगों को लगता है कि भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री की हालत सुधरेगी ! कैसे सुधरेगी भाई जब आपकी फिल्में 50 लाख की लागत तक नहीं वसूल पाती वहीं आपके अपने ही इलाके के एक सामान्य शिक्षक प्रोफेसर आनंद कुमार की जीवनी पर बनी हिंदी फिल्म तीन हफ़्ते में ही उन्ही थियेटरों में साढ़े पांच करोड़ का व्यवसाय कर जाती हैं । सोंचियेगा फुर्सत में कभी समय मिलेगा तो क्योंकि सुपर 30 भी फ़िल्म ही थी और आप लोग भी फ़िल्म ही बना रहे हैं ।
फिर भोजपुरी फिल्मों के बारे में हम क्यों ना कहें कि Investment Are Subject To Market Risk …!?

— अभिषेक तिवारी जी के फेसबुक वाल से

रउवा खातिर:
भोजपुरी मुहावरा आउर कहाउत
देहाती गारी आ ओरहन
भोजपुरी शब्द के उल्टा अर्थ वाला शब्द
जानवर के नाम भोजपुरी में
भोजपुरी में चिरई चुरुंग के नाम

इहो पढ़ीं
भोजपुरी गीतों के प्रकार
भोजपुरी पर्यायवाची शब्द – भाग १
भोजपुरी पहेली | बुझउवल
भोजपुरी मुहावरा और अर्थ
अनेक शब्द खातिर एक शब्द : भाग १
लइकाई के खेल ओका – बोका
भोजपुरी व्याकरण : भाग १
सोहर

ध्यान दीं: भोजपुरी फिल्म न्यूज़ ( Bhojpuri Film News ), भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े  जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं।

Leave a Reply