भोजपुरी के पुरखा : रामेश्वर सिंह ‘काश्यप’ उर्फ लोहा सिंह

भोजपुरी के पुरखा : रामेश्वर सिंह ‘काश्यप’ उर्फ लोहा सिंह के जनम 16 अगस्त सन 1926 ई के रोहतास जिला के सेमरा गाँव मे भइल रहे। हिन्दी मे पटना विश्वविद्यालय से सन 1950 ई में एम. ए. पास क के ओहि साल बी. एन. कॉलेज, पटना में प्राध्यापक हो गइलीं।

रामेश्वर सिंह 'काश्यप' उर्फ लोहा सिंह
रामेश्वर सिंह ‘काश्यप’ उर्फ लोहा सिंह

सत्तर के दशक में उहा के एस. पी. जैन कॉलेज, सासाराम में प्राचार्य हो गइलीं। आ ओहिजे से सेवानिवृत्त भी भइल रही। सन 1977-78 में बिहार सरकार द्वारा वित्त पोषित ‘भोजपुरी अकादमी’ के पहिलकी कार्यसमिति के सदस्य मनोनीत भइली।

इहा के लइकाइये ले साहित्य के जवन चसका लागल उ आजीवन बनल रहल।उनकर लिखल ‘लोहा सिंह’ नाटक अपना समय मे बहुत प्रसिद्धि पवले रहे। ओकर 300 क़िस्त पटना आकाशवाणी से प्रसारित भइल रहे। लोहा सिंह आ लोहा सिंह के मोर्चा नाव से एकर दूगो संग्रह छपल बा। लोहा सिंह नाटक पर बनल सिनेमा बड़ा पसन्द कइल गइल।

ओकर कहानी पटकथा,संवाद आ गीत इहा के लिखबो कइनी आ खुदे अभिनयो कइले रही।एकरा अलावा इहा के’कब होई हे गवना हमार’ आ ‘सईया से भइले मिलनवा’ जइसन सिनेमा के पटकथा आ कुछ गीत लिखले रही।

हिन्दी आ भोजपुरी में समान रूप से रस बरिसावे वाला काश्यप जी के मिजाज आ दिमाग मे जहाँ भोजपुरिहा ठाट रहे उहा साहित्य आ कला के संस्कारो मिलल रहे।हास्य व्यंग्य आ सिंगार के मौज-मस्ती के संगे गम्भीरता से संजोग बड़ा दुर्लभ होला बाकिर काश्यप जी मे दुनो जवराइल रहे।

राजेश भोजपुरिया जी
राजेश भोजपुरिया जी

बेफिकरी के आलम अतना बेजोड़ रहे कि लिखला के दसवो हिस्सा उहां के जीवन काल मे प्रकाशित ना हो सकल रहे,तबो हिन्दी मे अपरानजय निराला,समाधान, स्वर्गरेखा,कायापलट,तराजू के फेर, आ बेकारी का ईलाज नाव से पुस्तक प्रकाशित हो चुकल बाड़ी सन।

भोजपुरी साहित्य रचे में उहा के कलम हर विधा में कमाल हासिल कइले बा जवना के गवाह अनेक पत्र पत्रिकन में प्रकाशित उहा के रचना बाड़ी सन।

भोजपुरी में इहा के कहानी ‘मछरी’ चन्द्रधर शर्मा गुलेरी जी के लिखल हिन्दी के कहानी ‘उसने कहा था’ के टक्कर के रहे।
काश्यप जी के निधन 24 अक्टूबर 1992 में हो गइल।

– राजेश भोजपुरिया

जोगीरा डॉट कॉम पऽ भोजपुरी पाठक सब खातिर उपलब्ध सामग्री

ध्यान दीं: भोजपुरी फिल्म न्यूज़ ( Bhojpuri Film News ), भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े  जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं।

Leave a Reply