भोजपुरी लघुकथा बहाना : संगीत सुभाष

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव संगीत सुभाष जी के लिखल भोजपुरी लघुकथा बहाना, रउवा सब से निहोरा बा कि पढ़ला के बाद आपन राय जरूर दीं, अगर रउवा संगीत सुभाष जी के लिखल भोजपुरी लघुकथा अच्छा लागल त शेयर आ लाइक जरूर करी।

फुलेसर का अपना हरवाह के हाव – भाव देखिके अन्दाजा हो गइल रहे कि ई हमार हरवाही छोड़िके, इहाँ से दूसरा जगह जइहें। खेतिहर मजदूर की कमी का चलते फुलेसर का चिन्ता हो गइल रहे कि जदी हरवाह छुटि जाई त फिनु मिली कि ना? एही से ओहिदिन रोटी में घीव लगाके, अँचार, सब्जी, दही, नीम के दतुअन आ बाल्टी भर पानी पनपिआव खातिर ले के हरवाही में गइलें।

हरवाह हर चलावल रोकिके अइलें आ दतुअन करे लगलें। उनुका भागे के बहाना चाहत रहे, एसे दतुअन कइला का बाद ए तरे थुकसु कि फुलेसर का देहि पर परि जा। फुलेसर कुछ ना बोललें। अब हरवाह जानिबुझि के ए तरे थुकलें कि आधा थूक फुलेसर का देंहि पर आ गइल। फुलेसर का मनहीं रीसि त हड़ाहे बरल लेकिन बरदास क के कहलें-‘ए मरदवा! तहार थूकवा त बड़ा शीतल बा हो?’

हरवाह पैना फेंकत कहलें-‘त लS, जेकर थूक गरम होई ओकरे से हर चलवा लिहS।’
हरवाह चलि गइलें आ फुलेसर टुकुर- टुकुर उनुके जात देखत रहि गइलें।

जोगीरा डॉट कॉम पऽ भोजपुरी पाठक सब खातिर उपलब्ध सामग्री

ध्यान दीं: भोजपुरी फिल्म न्यूज़ ( Bhojpuri Film News ), भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े  जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं।

Leave a Reply