भोजपुरी कहावत और मुहावरा : पांचवा भाग

परनाम ! रउवा लोग के स्वागत बा ! आज हमनी के भोजपुरी मुहावरा अउर कहावत के पांचवा भाग पढ़ेब जा आ सीखेब जा। भोजपुरी में बोल चाल के भासा में मुहाबरा आ कहावत के खूब बोलल जाला।

हमरा उमेद बा की रउवा सब अपना गावं-घरे में बूढ़ पुरनिया से मुहबरा जरूर सुनले होखेब, लेकिन अब भोजपुरी मुहावरा के उपयोग कम होखत जा ता।

जरुरी बा की भूलल, बिसरल आ बिलात भोजपुरी मुहावरा अउर कहावत के सहेजल जाव आ ओकरा के नवका पीढ़ी के साथ बाटल जाव।

जोगीरा डॉट कॉम के प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव, एह कड़ी के आगे बढ़ावत जोगीरा लेके आइल बा भोजपुरी मुहावरा आ देहाती कहावत, जहा प रउवा भोजपुरी मुहावरा के बारे में पढ़ेब और ओकरा बारे में जानेब ओकर अर्थ के साथ।

भोजपुरी मुहावरा | Bhojpuri Idioms with meaning

  1. कान उँखाड़ल – गलत रास्ते से बचाना
  2. काकाट के काढ़ल – बंधुआ बनाना
  3. काकाटल – मात करना
  4. कान चबाइल – एक बात को बार बार बोलना, ज्यादा बोलना
  5. कान भरल – चुगली करना, शिकायत करना, किसी के विरुद्ध किसी के मन में कोई बात जमा या बैठा देना।
  6. कान फुकल – दीक्षा देना, गुरु मंत्र देना, सिखाना।
  7. कान खोल के सुनल – सावधान होकर सुनना
  8. कान छेदल – स्वाधीन बनना
  9. कान धइल – भूल स्वीकार करना
  10. कान में अंगुरी लगावल – ध्यान हटाना
  11. कान में तेल डाल के सुतल – बेफिक्र
  12. काना-फूसी – गुप्त वार्ता
  13. कानी बिलाई होखल – घास में छिपा साँप, ऊपर सीधा भीतर कपट
  14. कानोका – बिल्कुल गोपनीय
  15. कान्ह देहल – सहयोग करना
  16. कान्ह लगावल – सहारा देना
  17. कान्हा भइंसा – मनबढ़ू
  18. काचोखभइलकार्यसिद्धि
  19. काल आइल – मृत्यु का समीप होना
  20. काल निअराइल – मार खाने खाने वाला काम करना (तहार काल निअराइल बा)
  21. काशी के फिरता – चालबाज

भोजपुरी मुहावरा
पहिला भाग
दुसरका भाग
तिसरका भाग
चउथा भाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + fourteen =