देवेन्द्र कुमार राय जी के लिखल भोजपुरी कविता हम भोजपुरीया

देवेन्द्र कुमार राय जी
देवेन्द्र कुमार राय जी

दुखवा कलेसवा में हिमत ना हारीला,
सुखवा में कबो ना धाधाईं भोजपुरीया।

सभके हो सुख चैन इहे हम मनाईला,
दोसरा के दुख के संघाती भोजपुरीया।

महला दुमहला के लालासा ना हमरा हो,
देशवा के सभकुछ माने भोजपुरीया।

आकाशवा के मानीले देह के चदरिया हो,
भुईंया के माई के आ़चर भोजपुरीया।

सगरो बिदेशवा में हमही भेंटाईला,
हमही पुरूब के अंजोर भोजपुरीया।

हमरा के देखि के कांपेला फिरंगीया हो,
फेरू इंहा मिले ना सम्मान भोजपुरीया।

सतर बरीसवा से केहु ना पूछेला,
कवना जुलुम के सजाइ भोजपुरीया।

कुँअर बशीठ के हमहीं मतरीया हो,
फेरकाहे लोग दुरदुरावे भोजपुरीया।

जबले भोजपुरीया के देशवा ना पूजी हो,
तबले ना भारत महान भोजपुरीया।

देवेन्द्र कुमार राय ( ग्राम+पो०: जमुआँव, पीरो, भोजपुर, बिहार )

इहो पढ़ी: देवेन्द्र कुमार राय जी के लिखल कुछ भोजपुरी कविता

ध्यान दीं: भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े खातिर जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × two =