Home भोजपुरी साहित्य

भोजपुरी साहित्य

भोजपुरी साहित्य, भोजपुरी कविता, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी ग़ज़ल, Bhojpuri sahitya, Bhojpuri kavita, Bhojpuri katha kahani, Bhojpuri gazal

रवि सिंह जी

रवि सिंह जी के लिखल भोजपुरी कहानी कन्यादान के अधिकार

पूरा बीस साल बाद मंजू आपन बेटी शिवानी के लेके गाँवे आईल रहली।घर के कोना-कोना से उनकर ईयाद जुडल रहे। आँगना,दुवार,तुलसी-चौड़ा,ईनार,निम के गाछ सब...
कवि ह्रदयानन्द विशाल जी

कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल कुछ भोजपुरी कविता

ब्यास + गायक ए दुनू जाना मे अंतर होला जे कथा कहानी गावेला उ ब्यास गिनती मे आवेला जे खाली गाना गावेला सभे गायक ओके बतावेला हम मानतानी की कुछ...
रवि सिंह जी

रवि सिंह जी के लिखल भोजपुरी कहानी छत के घर

केदार बाबा आ बलिराम बाबा अपना समय के नामी भूमिहार (भूंजार) रहे लोग। बियाह के बाद बड़ा शान से खूब निमन खापरापोश वाला घर...
अविनाश मिश्रा जी

अविनाश मिश्रा जी के दुगो रचना

राज दिल के सुना दीं त काहें कहअ, हाल आपन बता दीं त काहें कहअ. बात के द लुकाए, बा जेइसन जहाँ बात सबके बताईं , त...
कवि ह्रदयानन्द विशाल जी

कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल अध्यात्मिक गीत दुलहिन डोली मे जाली

पढ़ीं सभे कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल भोजपुरी अध्यात्मिक गीत दुलहिन डोली मे जाली सुसुकत सफर मे केहु ना संघाती साथी लउकल डगर...
कवि ह्रदयानन्द विशाल जी

कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल ठाठा के हँसीं बेमारी भाग जाई

कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के भोजपुरी कविता लिखल ठाठा के हँसीं बेमारी भाग जाई घटना एगो देखनी जब जात रहनी कमाये एगो छाँटल कंजूस गइलन काशी मे नहाये गंगा...
दीपक सिंह जी

दीपक सिंह जी के लिखल भोजपुरी कविता कह के चल गइल

जेकरा कवनो लूर ना रहल, उहो कह के चल गइल साफ करत रह गइनी हमके सजी कचर के चल गइल ई ठीक बा,अइसे होला हम समझावत रह गइनीं रे बकलोल,...
मिथिलेश मैकश जी

मिथिलेश मैकश जी के लिखल आदमी के आदत ह देखे के…

आदमी के आदत ह देखे के आदमी लचकोकर होला जीभ रहते भी गुंग होला दुगो कान रहते भी बहिर होला दुगो आँख रहते भी आन्हर होला बहेंगवा होला, बेहाया...
दीपक तिवारी जी

कवनो बात बा जरुरे

कवनो बात बा जरुरे, तबे  संघे  रहत बा। राह में  केहू राही के,  इन्तजार  करत  बा।। केहू केहू के अइसे पुछेला ना, नीमनो सुरतिया  रुचेला ना सभ आके...
रवि सिंह जी

रवि सिंह जी के लिखल भोजपुरी कथा बेटी के भाग

गोधन कुटा गईल रहे, लोग बियाह-शादी के रिश्ता खातिर आवे-जाय लागल रहे।रघुनाथ के भी आपन बेटी के हाथ पियर करे के रहे। एगो सेयान...
गणेश नाथ तिवारी "विनायक" जी

गणेश नाथ तिवारी “विनायक” जी के लिखल चाँद के अंजोरिया से भइले अंजोर

चाँद के अंजोरिया से भइले अंजोर कोयल कुके चिरई चिहके चहुओर उठ भइल अब भोर चाँद के अंजोरिया से भइले अंजोर खटिया के छोड़ि सब उठले किसनवा फुटली किरिनिया...
दीपक तिवारी जी

दीपक तिवारी जी के लिखल भोजपुरी कविता मोकाम

देग देग पs काँटा ,बा ओह में राह बानावे के । लक्ष्य के अपना पूरा करे के, बा मंजिल के पावे के ।। सोच के हरमेश...
रवि सिंह जी

रवि सिंह जी के लिखल आपन पहचान

सारिका बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि के रहली। पढ़ाई लिखाई के संगे ही खेल कूद में भी अव्वल रहली।उनकर पढ़ाई लिखाई के रुचि देखी...
माया शर्मा जी

बढई-बढई खूँटा चीर खुँटवा में दालि बा, का खाईं का पीं, का लेके परदेश...

नानी दुवारे तरई बिछावत नेहा के बोलवली-"नेहा! मुन्हार होता ,आव$ दुवारे,तरई बिछवले बानी,बइठ$ तउलक रसोई बनेला।"नेहा घरमें से अउते कहली-त नानी कथ्था कहबू नँ?"नानी...
खदेरन के पाठशाला : नवका मुद्दा

खदेरन के पाठशाला : जलोटा के लोटा में पेट्रोल के आग

(क्लास में लड़िका सब गाय लेखा चुपचाप बइठल बारें स, यूएसबी स्पीकर पर अनूप जलोटा के ग़ज़ल चल रहल बा। मास्टर साहेब के आवत...
माया शर्मा जी

माया शर्मा जी के लिखल बिसरल भोजपुरी कथ्था

"नानी का करताड़ू, हम खेलि के आ गइनी। आव न$ ...बिछाव तरइया बइठल जाव"-नेहा नानी के बोलावत कहली। नानी तरई लियाके बिछा दिहली,तउलक ऐगो...
धर्मदेव चौहान जी

धर्मदेव चौहान जी के लिखल बहिनिया

पगड़ी सर के ताज बहिनिया। सारा घर के नाज बहिनिया। आँखिन के हs लाज बहिनिया। दुनिया अऊर समाज बहिनिया। दादा-दादी के ह थाति । घरवा के हs दीया-बाती। बाबूजी के...
विमल कुमार जी

विमल कुमार जी के कुछ भोजपुरी रचना

काँवर गीत के रस लिहीं सभे, अउर जरूर बताइब जा की लिखे आइल बा की ना काँवर गीत सईंया काँवर कीन$ चल$ देवघर घुमि आईं जा बाबा...
माया शर्मा जी

माया शर्मा जी के लिखल एगो कजरी

बदरा घीरि -घीरि आवेला अँगनवाँ। मचावे सोर पवनवाँना।। टुकुर-टुकुर धरती निहारे बदरिया , सूखल अँचरवा पसारे एहि कदरिया। कि जइसे एक बूँद खातिर तड़पे, तड़पे जल बिन मछरिया ना।।1।। सूखले...
संदीप कुमार सिंह जी

संदीप कुमार सिंह जी के लिखल कुछ कविता

दल बदलू नेता नेता जी के पेट हs की लमहर खेत इनकर एगो दल से काम ना चले दोसरा दल में ना जिईहन, ना भरी कहियो इनकर...