Home भोजपुरी साहित्य हास्य व्यंग्य

हास्य व्यंग्य

संगीत सुभाष जी

संगीत सुभाष जी के लिखल भोजपुरी व्यंग्य कुक्रांद

आई पढ़ल जाव संगीत सुभाष जी के लिखल एगो बेहतरीन भोजपुरी व्यंग्य कुक्रांद, पढ़ीं आ आपन राय बताइ कि रउवा इ भोजपुरी व्यंग्य कुक्रांद...
अमरेन्द्र जी

अमरेन्द्र जी के लिखल घसगढ़ी के पढ़ाई | एगो हास व्यंग

हम का हईं। अभी हमरे खुद पाता नइखे। तबो हम अपना के बिदवान से उपर ना,त नीचहूं ना बुझीं। इसकुल चलाइना, ठठ्ठे बात नइखे,बुझनी। हमरा खुदसर के...
खदेरन के पाठशाला : नवका मुद्दा

खदेरन के पाठशाला : जलोटा के लोटा में पेट्रोल के आग

(क्लास में लड़िका सब गाय लेखा चुपचाप बइठल बारें स, यूएसबी स्पीकर पर अनूप जलोटा के ग़ज़ल चल रहल बा। मास्टर साहेब के आवत...
हास्य व्यंग्य : बाराती

बाराती

जे तरे बिना जर्दा के पान कौनो मानी नइखे राखत ओही तरे बिना बराती के शादी के कौनो मतलब ना हऽ। जइसे सारी जिनगी...
घट गइल बा

घट गइल बा

हमार बैंक बैलेंस घट गइल बा। कनेकसन सब जगह से कट गइल बा।। ई इसकूटर, फिरीज, रंगीन टी.वी। बड़ा सस्ता में लइका पट गइल बा।। बनी अब एकता...
कौनो गारन्टी बा का

कौनो गारन्टी बा का

केकरा से नैना लड़ी, कौनो गारन्टी बा का। केतना ऊपर से पड़ी, कौनो गारन्टी बा का।। ई हऽ सम्मेलन कवि के, दउड़ के मत जा उहाँ। चाए...
डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना जी

नथुनियाँ पर गोली मारे…

गोली मारल एगो अइसन शब्द बा जवना के अर्थ हरमेसे उल्टा लिहल जाला - नाम सुनते रोआँ खड़ा हो जाला आ करेजा काँप जाला...
बियाह मत करि हऽ

बियाह मत करि हऽ

आपन जिनगी तबाह मत करि हऽ। प्यार करि हऽ बियाह मत करि हऽ।। आदमी से तू नेता बन जई बऽ। राजनीति के चाह मत करि हऽ।। ऊ कमाएले...