हरेन्द्र कुमार जी के लिखल भोजपुरी उपन्यास सुष्मिता सन्याल कऽ डायरी

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प , रउवा सब के सोझा बा हरेन्द्र कुमार जी के लिखल भोजपुरी उपन्यास सुष्मिता सन्याल कऽ डायरी। एह उपन्यास के डाउनलोड करि आ पढ़ीं, आपन राय जरूर दीं कि रउवा इ भोजपुरी उपन्यास कइसन लागल आ रउवा सब से निहोरा बा कि शेयर जरूर करी।

आपन बात

हरेन्द्र कुमार जी के लिखल भोजपुरी उपन्यास सुष्मिता सन्याल कऽ डायरी
हरेन्द्र कुमार जी के लिखल भोजपुरी उपन्यास सुष्मिता सन्याल कऽ डायरी

साँच कहानी से भी विचित्र होला। काहे कि-साँच बोले आ सुने के ताकत आदमी में ना होला। झूठ खातिर कवनो मापदण्ड नइखे-एही से झूठ हमेशा पूर्ण होला।

लेकिन साँच हमेशा अर्द्धसत्य होला काहे कि साँच कहावे खातिर ओकरा सामाजिक मापदण्ड के मुताबिक होखे के पड़ेला। तऽ इ कहानी भी अर्द्धसत्य ही बा।

अउरी भोजपुरी किताब पढ़ें खातिर क्लिक करि

भोजपुरी में लिखे खातिर हमार आपन स्वार्थ निहित बा। हमरा दूसरा कवनो भाषा में लिखे में हमेशा डर लागल रहेला। आ भोजपुरी माई के गोद जइसन बा। हम जानतानी कि भले माई से दूर बानी, बहुत दूर, लेकिन उनके पास जाइब त उ हमरा के डटहीन ना हमार गल्ती माफ कर दीहन।

-हरेन्द्र कुमार

हरेन्द्र कुमार जी के लिखल भोजपुरी उपन्यास सुष्मिता सन्याल कऽ डायरी डाउनलोड करे खातिर क्लिक करीं

Leave a Reply