Home आलेख

आलेख

भोजपुरी लेखक सभ के भेजल भोजपुरी आलेख के संग्रह कइल गइल बा।

जोगीरा डॉट कॉम के ई सतत प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव,

अगर रउवा येह पेज के पढ़ रहल बानी त रउवा सब से निहोरा बा की आपन रचना जोगीरा के जरूर भेजी, हमनी के बड़ी खुसी मिली राउर रचना अपना वेबसाइट प जोड़ के।

भोजपुरी साहित्य आ भासा के प्रसार खातिर।

Aalekh in bhojpuri

महागौरी माई | नवरातन के आठवां दिन

महागौरी माई | नवरातन के आठवां दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना महागौरी माई | नवरातन के...
कालरात्रि माई | नवरातन के सातवां दिन

कालरात्रि माई | नवरातन के सातवां दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना कालरात्रि माई | नवरातन के...
माई कात्यायनी | नवरातन के छठवाँ दिन

माई कात्यायनी | नवरातन के छठवाँ दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना माई कात्यायनी | नवरातन के...
स्कंदमाता माई | नवरातन के पाँचवा दिन

स्कंदमाता माई | नवरातन के पाँचवा दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना स्कंदमाता माई | नवरातन के...
कुष्मांडा माई | नवरातन के चउथका दिन

कुष्मांडा माई | नवरातन के चउथका दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना कुष्मांडा माई | नवरातन के...
चंद्रघंटा माई | नवरातन के तिसरका दिन

चंद्रघंटा माई | नवरातन के तिसरका दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना चंद्रघंटा माई | नवरातन के...
ब्रह्मचारिणी माई | नवरातन के दूसरा दिन

ब्रह्मचारिणी माई | नवरातन के दूसरा दिन | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना ब्रह्मचारिणी माई | नवरातन के...
माई शैलपुत्री पहिलका रूप

माई शैलपुत्री पहिलका रूप | निर्भय नीर

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना माई शैलपुत्री पहिलका रूप ,...
का ह जिउतिया : तारकेश्वर राय

का ह जिउतिया : तारकेश्वर राय

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव तारकेश्वर राय जी के जितिया व्रत पर लिखल एगो आलेख का ह...
बहुरा चउथ : केशव मोहन पाण्डेय जी

बहुरा चउथ : केशव मोहन पाण्डेय जी

भादो महीना के अन्हारी चउथ बहुरा गणेश चउथ के नाम से जानल जाला। एह बहुरा चउथ के कई जगहे बहुला चउथ आ संकटी चउथ...
लोकगाथा से उपजल एगो कला शैली : मंजूषा चित्रकारी

लोकगाथा से उपजल एगो कला शैली : मंजूषा चित्रकारी

मध्य वैदिक काल के सोलह गो जनपद में से एगो चंपानगर वर्तमान भागलपुर,बिहार के एगो कस्बा। मानल जाला कि अपना उत्कर्ष काल में ई...
माउंटेन मैन दशरथ माँझी

माउंटेन मैन दशरथ माँझी

माउंटेन मैन दशरथ माँझी, एगो अइसन नाम जवन इंसानी जज्‍़बा आ जुनून के मिसाल बन गइलन। उ दीवानगी, जवन अपना प्यार खातिर ज़िद में...
पिडिया का व्रत

पिडिया का व्रत

अन्य व्रत एक या दो दिन मे समाप्त हो जाते हे परन्तु पिडिया के ही व्रत की यह विशेषता है कि यह पूरे एक...
जीवित पुत्रिका व्रत | जिउतिया

जीवित पुत्रिका व्रत | जिउतिया

भोजपूरी प्रदेश में यह व्रत 'जिउतिया' के नाम से प्रसिद्ध है। यह व्रत पुत्र की प्राप्ति तथा उसके जीवन की रक्षा तथा आयुष्य के...
चिऊँटा हो चिऊँटा का खेल

चिऊँटा हो चिऊँटा का खेल

चिऊँटा हो चिऊँटा का खेल : इस खेल में पाँच-सात लडके भाग लिया करते है जिनकी आयु पाँच से दस-बारह के बीच होती है।...
कबड्डी

कबड्डी

कबड्डी-भोजपुरी-प्रदेश का यह सबसे प्रसिद्ध तथा लोकप्रिय खेल है। इसे लड़के तथा वयस्क समान रूप से खेलते हे। कबड्डी के इस खेल ने अब...
गुल्ली-डंडा

गुल्ली-डंडा

गुल्ली-डंडा लडको की सबसे प्रसिद्ध, प्रचलित तथा लोकप्रिय खेल है। खेलते है। इस खेल के खिलाडी दो दलो मे बँट जाते है। खेल का...
भोजपुरी स्त्रियों के आभूषण

भोजपुरी स्त्रियों के आभूषण

आभूषण स्त्रियों—विशेषकर भोजपुरी स्त्रियो—का परम प्रिय वस्तु है। विवाह के अवसर पर वर पक्ष की समद्धि का अनुमान उमके द्वारा कन्या के लिए लाये...
भोजपुरी परिवार के सदस्य

भोजपुरी परिवार के सदस्य

भोजपुरी संयुक्त परिवार में विभिन्न सदस्य एक साथ ही निवास करते है, जो विभिन्न नामो से पुकारे जाते है। इनके अतिरिक्त कुछ ऐसे भी...
भोजपुरी लोकगाथाओं में संस्कृति एवं सभ्यता

भोजपुरी लोकगाथाओं में संस्कृति एवं सभ्यता

भोजपुरी संस्कृति एवं सभ्यता के मूल में प्रधान रूप से वीर प्रवृत्ति निहित है। श्री ग्रियर्सन तथा अन्यान्य विद्वानों ने इसी तथ्य को स्वीकार...