Home आलेख

आलेख

भोजपुरी लेखक सभ के भेजल भोजपुरी आलेख के संग्रह कइल गइल बा।

जोगीरा डॉट कॉम के ई सतत प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव,

अगर रउवा येह पेज के पढ़ रहल बानी त रउवा सब से निहोरा बा की आपन रचना जोगीरा के जरूर भेजी, हमनी के बड़ी खुसी मिली राउर रचना अपना वेबसाइट प जोड़ के।

भोजपुरी साहित्य आ भासा के प्रसार खातिर।

Aalekh in bhojpuri

बिहार के भोजपुरी लोककला : दयाशंकर उपाध्याय

बिहार के भोजपुरी लोककला : दयाशंकर उपाध्याय

0
आदमी के अनुभूतियन के अभिव्यक्ति के नाँव लोककला ह। लोककला में सौंदर्य के साथे आनन्दो के समावेश होला । वास्तव में ई आदमी के...
जयकान्त सिंह जी

श्लीलता आ अश्लीलता : डॉ. जयकान्त सिंह

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, रउवा सब के सोझा बा जयकान्त सिंह जी के लिखल आलेख भोजपुरी में श्लीलता...
निर्भय नीर जी

शायद अब लोग समझ जाव : निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प,अपना हिन्दू धरम के कुछ रीती रिवाज आ मानता के बारे में बता रहल बानी निर्भय...
कोरोना संक्रमण से बचाव ही उपाय | तारकेश्वर राय

कोरोना संक्रमण से बचाव ही उपाय | तारकेश्वर राय

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आज रउवा के सामने बा तारकेश्वर राय जी के लिखल आलेख कोरोना संक्रमण से...
पप्पू मिश्र 'पुष्प' जी

माई के ममता आ आशीष ह भोजपुरी! : पप्पू मिश्र ‘पुष्प’

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आज रउवा के सामने बा पप्पू मिश्र 'पुष्प' जी के लिखल आलेख माई के...
जोगीरा सा रा रा रा.........

3० गो जोगीरा | त बोलीं जोगीरा सा रा रा रा….

0
जोगीरा होरी के एगो अलगे कनछी ह। एकर एगो अलग रंग-लालित्य बा । गवनई का बीच में फोरन लेखा, एह नगीनन के चमक सहजे...
घोघोरानी ! केतना पानी?

घोघोरानी ! केतना पानी?

0
एह खेल में कुछ लइका मिलके एगो गोलाई बना लेलेसन गोलाई के बीच में एगो लइका खाड़ा हो जाला। मान लेहल जाला कि बीच...
भोजपुरी के विकास में बाधक तत्व : पवन कुमार 'जय'

भोजपुरी के विकास में बाधक तत्व : पवन कुमार ‘जय’

0
भोजपुरी के विकास में बाधक तत्व : विकास आ बाधा दूनो एक सिक्का के दूगो पहलू का रूप में मानल जाला। काहे की गंगा...
हिन्दी आ भोजपुरी

हिन्दी आ भोजपुरी

0
एह देश के जवना भूभाग के हिन्दी के क्षेत्र कहल जाला, ओह भूभाग के एगो बड़हन क्षेत्र के प्रमुख भाषा भोजपुरी ह । बलुक,...
फगुआ आ फगुआ गीत

फगुआ आ फगुआ गीत

0
वसंत पंचमी के दिन होरी गावे के ताल उठेला तब से होरी के साथे फगुआ अवरु फगुई गवाये के शुरु हो जाला। फगुआ दीपचन्दी...
होरी : समूह गीत के एगो विधा ह

होरी : समूह गीत के एगो विधा ह

0
होरी-होरी समूह गीत के एगो विधा ह, जवन ताल दीपचन्दी (चांचर) अवरु राग काफी में गावल जाला । एकर एगो धुन बन गइल वा...
भोजपुरी संस्कार गीतों में परिहास, गाली और अश्लीलता

भोजपुरी संस्कार गीतों में परिहास, गाली और अश्लीलता

0
भोजपुरी संस्कार गीतों में परिहास, अश्लीलता और गालीगीतों का प्रचलन समस्त लोक भाषाओं में मिलता है । यह परिपाटी क्यों, कहाँ और कैसे प्रारम्भ...
हमरा नजर में वर्ष 2019 : संजीव कुमार सिंह

हमरा नजर में वर्ष 2019 : संजीव कुमार सिंह

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव संजीव कुमार जी के लिखल हमरा नजर में वर्ष 2019 , देखीं...
भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त दुःख

भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त दुःख

0
भोजपुरी लोकगीतों में ऐसे भी गीत गाये जाते है जो पाषाण से पाषाण हृदय की करुण भावनाओं की मार्मिक अभिव्यक्ति होती है विदाई, वियोग...
भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त उल्लास

भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त उल्लास

0
भोजपुरी लोकगीतों में विभिन्न अवसरों पर विभिन्न गीत गाये जाते हैं जो हमारे जीवन में खुशियों का संचार करते हैं। ग्रामीण लोग सामुदायिक रूप...
भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त स्त्री जीवन

भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त स्त्री जीवन

0
भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त स्त्री जीवन  प्राचीन वैदिक काल, पौराणिक काल तथा महाभारत और रामायण के युग में स्त्री का स्थान अत्यन्त उच्च था।...
भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त सामाजिक जीवन

भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त सामाजिक जीवन

0
लोकगीतों में ताजे पानी का आनन्द आता है लोकगीत, लोकजीवन की जीती जागती सम्पत्ति है। उनकी गिनती लोकसाहित्य में होती है भोजपुरी लोकगीतों में...
Bhojpuri-speaking region in Bihar and Uttar Pradesh

Bhojpuri Language, Cultural Region and People

0
The word ‘Bhojpuri’ (भोजपुरी) signifies a language and the people who speak that language. People in several districts of western Bihar and eastern Uttar...
भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त राष्ट्रीय चेतना

भोजपुरी लोकगीतों में व्यक्त राष्ट्रीय चेतना

0
भोजपुरी लोकगीत राष्ट्रीय चेतना से पृथक नहीं है। लोकगीत का मूल उद्देश्य मानव-हृदय को आह्लादित करना होता है, परन्तु वह अपने देश, समाज और...
महादेव कुमार सिंह जी

भोजपुरी भाषा हमारी धरोहर | महादेव कुमार सिंह

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, रउवा सब के सोझा बा महादेव कुमार सिंह जी के लिखल आलेख भोजपुरी भाषा हमारी...