Home आलेख

आलेख

भोजपुरी लेखक सभ के भेजल भोजपुरी आलेख के संग्रह कइल गइल बा।

जोगीरा डॉट कॉम के ई सतत प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव,

अगर रउवा येह पेज के पढ़ रहल बानी त रउवा सब से निहोरा बा की आपन रचना जोगीरा के जरूर भेजी, हमनी के बड़ी खुसी मिली राउर रचना अपना वेबसाइट प जोड़ के।

भोजपुरी साहित्य आ भासा के प्रसार खातिर।

Aalekh in bhojpuri

होली के सांस्कृतिक महत्व : अक्षयवर दीक्षित

होली के सांस्कृतिक महत्व : अक्षयवर दीक्षित

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव अक्षयवर दीक्षित जी के लिखल निबंध होली के सांस्कृतिक महत्व, रउवा सब...
पिडिया का व्रत

पिड़िया का व्रत

0
अन्य व्रत एक या दो दिन में समाप्त हो जाते हैं परन्तु पिड़िया के ही व्रत की यह विशेषता है कि यह पूरे एक...
गोधन

गोधन

0
कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा को गोधन व्रत मनाया जाता है। भोजपुरी प्रदेश में इस दिन गोबर से एक मनुष्य की प्रतिकृति बनाकर उसकी छाती पर...
छठी माता के गीत

छठी माता के गीत

0
हिन्दू-जीवन में त्यौहारो का बड़ा माहात्म्य है। ये त्यौहार हमारे धर्म के अंग हो गये है। हमारे यहां सामाजिक त्यौहारो की अपेक्षा धार्मिक त्यौहारो...
भोजपुरी संस्कार गीत

भोजपुरी संस्कार गीत

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आईं जानल जाव भोजपुरी संस्कार गीत के बारे में, इ आलेख किताब भोजपुरी काव्य चयनिका...
छठ पूजा

छठ पूजा : निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल छठ पूजा पर एगो आलेख , रउवा...
राजेश भोजपुरिया

भोजपुरी लोकनाट्य मंडलीयन के विशिष्ट शब्दावली

0
मंडली के सदस्यन के मुंह से निकले वाली विशेष शब्दन मुहावरन आ उक्तियन में लोकनाटयन के विशेष पारिभाषिक शब्दावली आ ओकर रचना तंत्र के...
दसईं आ भूत

दसईं आ भूत : दिलीप पैनाली

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव दिलीप पैनाली जी के लिखल दसईं आ भूत, रउवा सब से निहोरा...
सिद्धिदात्री माई | नवरातन के नौवां दिन

सिद्धिदात्री माई | नवरातन के नौवां दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना सिद्धिदात्री माई | नवरातन के...
महागौरी माई | नवरातन के आठवां दिन

महागौरी माई | नवरातन के आठवां दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना महागौरी माई | नवरातन के...
कालरात्रि माई | नवरातन के सातवां दिन

कालरात्रि माई | नवरातन के सातवां दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना कालरात्रि माई | नवरातन के...
माई कात्यायनी | नवरातन के छठवाँ दिन

माई कात्यायनी | नवरातन के छठवाँ दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना माई कात्यायनी | नवरातन के...
स्कंदमाता माई | नवरातन के पाँचवा दिन

स्कंदमाता माई | नवरातन के पाँचवा दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना स्कंदमाता माई | नवरातन के...
कुष्मांडा माई | नवरातन के चउथका दिन

कुष्मांडा माई | नवरातन के चउथका दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना कुष्मांडा माई | नवरातन के...
चंद्रघंटा माई | नवरातन के तिसरका दिन

चंद्रघंटा माई | नवरातन के तिसरका दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना चंद्रघंटा माई | नवरातन के...
ब्रह्मचारिणी माई | नवरातन के दूसरा दिन

ब्रह्मचारिणी माई | नवरातन के दूसरा दिन | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना ब्रह्मचारिणी माई | नवरातन के...
माई शैलपुत्री पहिलका रूप

माई शैलपुत्री पहिलका रूप | निर्भय नीर

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आई पढ़ल जाव निर्भय नीर जी के लिखल भोजपुरी रचना माई शैलपुत्री पहिलका रूप ,...
का ह जिउतिया : तारकेश्वर राय

का ह जिउतिया : तारकेश्वर राय

0
परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव तारकेश्वर राय जी के जितिया व्रत पर लिखल एगो आलेख का ह...
बहुरा चउथ : केशव मोहन पाण्डेय जी

बहुरा चउथ : केशव मोहन पाण्डेय जी

0
भादो महीना के अन्हारी चउथ बहुरा गणेश चउथ के नाम से जानल जाला। एह बहुरा चउथ के कई जगहे बहुला चउथ आ संकटी चउथ...
लोकगाथा से उपजल एगो कला शैली : मंजूषा चित्रकारी

लोकगाथा से उपजल एगो कला शैली : मंजूषा चित्रकारी

0
मध्य वैदिक काल के सोलह गो जनपद में से एगो चंपानगर वर्तमान भागलपुर,बिहार के एगो कस्बा। मानल जाला कि अपना उत्कर्ष काल में ई...