अमरेन्द्र जी के लिखल एगो व्यंग कम्पूटर आ पलिवार

परनाम ! रउवा सब के जोगीरा डॉट कॉम प स्वागत बा, आई पढ़ल जाव अमरेन्द्र जी के लिखल एगो व्यंग कम्पूटर आ पलिवार , पढ़ीं आ आपन राय बताइ कि रउवा इ भोजपुरी व्यंग कम्पूटर आ पलिवार कइसन लागल, रउवा सब से निहोरा बा पढ़ला के बाद शेयर जरूर करीं

गोड़ लागिले कम्पूटर बाबा! चार्ल्स बेवेज भाई की जय हो!

क्रिया कर्म के बाद, हम भोरे उठतहिं एही दू गो लाएन बोलिना आ कंपूटर के की बोड प अंगुरी चलावे सुरू कर दीहिनी। चाय, नास्ता-पानी, खान-पिआन सभ एके साथ उनुके रूम में होला।भोर से राति हो जाले इनिके साथे।

बाकि उनुका आने कि हमरा घरइतिन के ई कंपूटर तनिको ना भावसु।दिन भर नाक धुनत रहेली।जरि जो।मरि जो।तोरा ऊफर परो रे कम्पूटरवा। आ,जो रे चार्ल्स बेवेजवा। ई जे तु जवन जिनीस बनइलसु,एकर सजा तोरा के भगावन जड़ुर दिहन।

कम्पूटर आ पलिवार
कम्पूटर आ पलिवार

कम्पूटरवा के पले जब-जब हमरा के देखेली बहुते अनसा ली।अकेले में बोलती भा बेलनिअइती हमरा कवनो तकलीफ ना रहित।बाकि ई त एगो अलगे बखेड़ा खाड़ा कइले बाड़ी।ई एकरा साथे सवतिआ डाह क लेले बाड़ी।अउरअउर ई हितई-नतई,बहरी-भितरी सभ जगे हाला फैला देले बाड़ी कि हमार संवाग बेहाथ होखत जा रहल बा।भोरे से लेके आधा रात तक ई कंपूटरवे में सटल रहत बा।हमरा ला त एह खसूट भीरि ना कवनो टायेम बा ना जगह।

दिन राति बर-बर बरबरात रहेली।एके बतिया धुनत रहेली।बहरिका लागो एह कंपूटर के।ना जाने ई कहवाँ से आ के हमार जीवन नरक बनवले बिया।सात लाख नगदी,अतने के समान आ उपर से कपड़ा लाता।कवन-कवन चीझु हमार बाप-मतारी ना देले रहनि?

अमरेन्द्र जी
अमरेन्द्र जी

अतना देला-लेला के बादो हमार तनिको मान मरजादा नइखे,बाकि ई नसपीटी कंपूटरवा,पहिले त साठ-सतर हजार लगा के आइलि उपर से एकर टेबुल,कुरूसी आ बिजुली के कतने मसीनि हजारन लगा के बजार से अइलि सं।ए बहुरिया ला अलगे घर,पर्दा,एसी हई-हऊ।उपर से हर महिने मेनटेन कराई।हमार करम फुटि गईल हम अईनी रोपेया ले के आ राज करतिआ ई।किनी बेसहि के आईल फतूरिया।

अउरअउर ई जे बुतुरूआ बा इहो ठीक अपना बापे के राहि धइले बा।जसहिं बपसी ओह घर में से निकलत बाड़े कि ई ओही घर में घुसिआ जात बा।देखहिं के छोट बा।जा के इहो ओकरे में चपकि जाला।दु तीन एतवार से त ई खाये- पीये के चिन्ता छोड़ि-छाड़ि के कम्पूटरवे के फेरा में रहत बा।ना किताब पढ़त बा,ना लिखत बा,ना बोलते बा।एकरा का हो गईल।जो रे! बेहाया कंपूटर! तोरा तनिको लाज दया नइखे।तु हमार पूत-भतार दूनों छिन लेलिस।अब क गो पीढ़ी छिनबिस।

आ एने हमार दू चारि गो संघतिया बाड़न, अलगे नाराज रहत बा लोग।केहू कहत बा कि का भाई! जब से कंपूटर ले अईल तु त दूज के चाँद हो गईल।केहू कहत बा मरदवा तु लक्की बाड़े।तोरा भी सुग्घर मेहरारू आ नवका जबाना के टटका वर्जन के कंपूटर दूनों बा।तऽ हमरा पांड़े जी के अलगे समसेआ बा।हरमेसे पूछत रहत बानी कि आ हो,सिंह जी! ई दूनो के एक साथे कइसे सम्हारे ल हो।

रउआ लोगिन किछुओ कहीं।बाकि हम आजु साफ क दिहल चाहत बानी कि: अब लाएन कटे के इंतजार करेली भा मनावेली कि बैटरिया बइठि जाईत।

अमरेन्द्र जी के लिखल अउरी रचना पढ़े खातिर क्लिक करि

Leave a Reply