जिनगी के परछाहीं – भोजपुरी कहानी संग्रह

जिनगी के परछाहीं - भोजपुरी कहानी संग्रह
जिनगी के परछाहीं - भोजपुरी कहानी संग्रह

कथा कहानी कवनो नावतुंग चीझ ना ह। आदमी जवन जी रहल बा, भोग रहल बा कहानी ओही मे से जनमेले। जिनगी हर छन एगो कथा ह , हर धड़कन गीत ह, मन के हर मुचकन कहानी ह। तन के हर बेबसी व्यथा ह – व्यथा के भोग कथा ह। जिनगी कहानी , कहानी जिनगी। गावं के अमराई में कहानी खेलेले , धुरा में लोटेले आ नदी किनारे जिनगी के परछाई देख -हेर के आँखि में सपना के काजर करेले।

शहर के हर रास्ता, सड़क; खेत के हर बाट, ड़रेर कहानी के गोर से धनंगाइल बा आ रँगाईल बा ओकरा महावर से इतिहास के गाल। आदमी के मन के प्रेम, घृणा जिनगी के अंग ह। अँजोर आ अन्हार से साउनाइल इहे रूप – इहे परछाही कहानी के प्रेणना ह।

जिनगी के परछाहीं भोजपुरी कहानी संग्रह डाउनलोड करे के खातिर क्लिक करीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + 8 =