कवि ह्रदयानन्द विशाल जी लिखल नाउ से नोचा जइबअ

0
कवि ह्रदयानन्द विशाल जी
कवि ह्रदयानन्द विशाल जी

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प , रउवा सब के सोझा बा कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल भोजपुरी कविता नाउ से नोचा जइबअ, पढ़ीं आ आपन राय जरूर दीं कि रउवा कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल भोजपुरी कविता कइसन लागल आ रउवा सब से निहोरा बा कि एह कविता के शेयर जरूर करी।

नाउ से नोचा जइबअ
चमार से चोथा जइबअ
धोबी से धोवा जइबअ
बँसफोर से बाँसा जइबअ

मिसिर से मिसा जइबअ
तिवारी से तुरा जइबअ
पटक पटक के काँड़े लगिहें
जब पाँड़े से पकड़ा जइबअ

कोईरी से कुटा जइबअ
कोहाँर से कोड़ा जइबअ
नोनिया से नाथा जइबअ
चतुरबेदी से चरचरा जइबअ

चौबे से चिपरा जइबअ
दुबे से दुबरा जइबअ
राजभर से रागरा जइबअ
सोनार से सइहारा जइबअ

पासी से पासरा जइबअ
लोहार से लासरा जइबअ
तेली से तिलमिला जइबअ
कानो से कनछिया जइबअ

माली से माला जइबअ
मालाह से मछिया जइबअ
ओझा से औतिया जइबअ
दिवेदी से दरकचा जइबअ

बनिया से बउरा जइबअ
गोशाईं से गेलहा जइबअ
मुशहर से मरमरा जइबअ
भाँट से भकभका जइबअ

कमकर से कुतरा जइबअ
गोंड़ से गोभा जइबअ
दाग दिहें गोली राजपुत
भुमिहार त छितरा जइबअ

ह्रदयानंद विशाल कहल
एकही गो बुधी लही जाला
एके बाँस मे सोझ कदी जब
अहिर से अझुरा जइबअ

कवि ह्रदयानन्द विशाल जी के लिखल अउरी रचना पढ़े खातिर क्लिक करि

Leave a Reply