एसआरके म्‍यूजिक ने पटना में खोला क्षेत्रीय कार्यालय

बिहार में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। यहां अच्‍छे सिंगरों की भरमार है। लेकिन उनके साथ मुश्किल तब आती है, जब उनकी प्रतिभा दुनिया के समाने लाने के लिए कोई सही प्‍लेटफॉर्म नहीं मिलता है। इसके अलावा उनके लिए मुंबई जाकर म्‍यूजिक रिलीज करना भी आसान नहीं होता है। इसलिए भोजपुरी फिल्म इंडस्‍ट्री (Bhojpuri Film Industry) की चर्चित म्‍यूजिक कंपनी एसआरके म्‍यूजिक ने अपना क्षेत्रिय कार्यालय का शुभारंभ राजधानी पटना के एग्‍जीबीशन रोड जुबैदा कांप्‍लेक्‍स में किया।

भोजपुरी सिनेमा के ताजा समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें

इस मौके पर एसआरके म्‍यूजिक (SRK Music) के सीएमडी रौशन कुमार ने बताया कि मुंबई पहुंच कर एक अच्‍छी कंपनी से अपनी म्‍यूजिक रिलीज करवाने में लोगों को तकलीफ होती है । इसलिए हमने प्‍लान किया कि पटना में एसआरके म्‍यूजिक का एक ब्रांच खोलें, ताकि लोगों को सपोर्ट मिले और वे इस प्‍लेटफॉर्म को आसानी एक्‍ससे कर पाये।

एसआरके म्‍यूजिक ने पटना में खोला कार्यालय
एसआरके म्‍यूजिक ने पटना में खोला कार्यालय

हमें लोगों का काफी फोन आता है और वे पूछते हैं कि इसका कोई ब्रांच है क्‍या। उन्‍होंने अश्‍लीलता को लेकर कहा कि हम उसका समर्थन नहीं करते हैं और सिंगरों से अपील करते हैं कि वे अच्‍छे गाने लेकर ही हमारे पास आयें। क्‍योंकि हम म्‍यूजिक इंडस्‍ट्री में ये मुकाम मेहनत से बनाई है।

शारदा सिन्‍हा से लोगों को इंस्‍पायर्ड हो कर सिंगरों को अच्‍छे गाने गाने चाहिए। वे आज भी फेमस हैं। हमारी कोशिश रहती है कि अच्‍छे गाने को ही पब्लिक डोमेन में लाया जा सके।

वहीं, एसआरके म्‍यूजिक के ब्रांच की ओपनिंग के दौरान भोजपुरी फिल्‍म इंडस्‍ट्री की वायरल गर्ल चांदनी सिंह, अभय सिन्‍हा, सिंगर विजय राज यादव और प्रो. व साहित्‍यकार डॉ हीरा नंद सिंह भी मौजूद रहे। दोनों ने एसआरके म्‍यूजिक की इस शुरूआत के लिए शुभकामनाएं दी।

चांदनी ने इस मौके पर कहा कि एसआरके म्‍यूजिक की यह पहल सराहनीय है। बिहार में सिंगरों की कमी नहीं है, यह सोशल मीडिया के दौर में पता चलता है। लेकिन वे सिंगर अपनी प्रतिभा को दुनिया के सामने सुनियोजित तरीके से लेकर आने में असमर्थ हैं। उन्‍हें उनकी प्रतिभा को प्रदर्शित करने के लिए कोई मंच नहीं मिलता है।

इस गैप को भरने के लिए ही आज रौशन कुमार ने एसआरके म्‍यूजिक का एक ब्रांच बिहार की राजधानी पटना में खोला है। मैं उनको बधाई देती हूं कि उन्‍होंने स्‍थानीय कलाकारों के दर्द को समझा और उन्‍हें मौका देने के लिए एक बेहतर मंच प्रदान कर रहे हैं।

ध्यान दीं: भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े खातिर जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं

Leave a Reply