काका हो, कहवाँ जबाना ई जाता

0
103

काका हो, कहवाँ जबाना ई जाता!
चवन्नी के भाव में रुपईया बिकाता
काका हो, कहवाँ जबाना ई जाता
अनपढ़ करेलें मास्टर के बहाली
कायदा कानून के देखीं बदहाली
हंस मुंह ताकतारें कौआ पुजाता
काका हो, कहवाँ जबाना ई जाता
छुट्टी हड़ताल स्कूल कॉलेज के खा गईल
टिउसन कोचिंग सेंटर के बहारे त आ गईल
दाम दीहीं जवन मन डिग्री भेटाता
काका हो, कहवाँ जबाना ई जाता
खाईला बिना नन्हका तिन दिन से हिलता
मोबाइल के सिम खाई फिरी में मिलता
इहे विकास ह गुण रोज गवाता
काका हो, कहवाँ जबाना ई जाता

SHARE
Previous articleधरती ह बिहार के
Next articleठेस जब दिल पर न लागल
जोगीरा डॉट कॉम भोजपुरी के ऑनलाइन सबसे मजबूत टेहा में से एगो टेहा बा, एह पऽ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के टटका ख़बर, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी किताब, भोजपुरी साहित्य आ भोजपुरी से जुड़ल समग्री उपलब्ध बा।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 − 7 =