केहू करे सिंगार बइठ के केहू करे बेगार

0
136

केहू करे सिंगार बइठ के केहू करे बेगार
करीं शिकायत केकरा से ई दुनिया के व्यवहार।

जेकर नसीब में जे लिखल बा उ ओकरा मिल जाई
अपना ऊपर करीं भरोसा लिखल भी टर जाई।

सब केहू के लड़े पड़ेला आपन-आपन युद्ध
चाहे राजाराम होखस चाहे गौतम बुद्ध।

होनी त बस होनी होला कवनो हाल में होई
कोटिस करीं उपाय मगर होनी टरै ना लोई।

चंचल मनवां दाब ना माने कतनों दाब लगाईं
देखल जानल बूझल बा ई हमरा मत समझाईं।

भाग के रेखा हाथ में देखे मनई बा कमजोर
आगो बढ़के भाग जे पलटे होला ओकरे शोर।

बात बात में बात बढ़ेला ई जाने सब कोई
बतकूचन से बांचीं तब नू फगुआ चइता होई।

सबकर भला त हमरो भला माई कहे हमार
खाली अपना में अझुराइल बेजा ह सरकार।

प्रीत करे से रीत ना जाने रीत ना जाने प्रीत
रीति देखके प्रीत करे जे ना ह केकरो मीत।

बनला के ह सभे संघतिया बिगड़ल के ना कोई
जे बिगड़ल के साथ निबाहे असली संगी सोई।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 − 10 =