अकेले चना भाँड़ ना नू फोरेला

0
162

जीवन के हर क्षेत्र में सहजोग के ज़रूरत परेला काहे कि आदमी के शक्ति सीमित बा। कठिन कार्य के सम्पादन में सहजोग चाहीं। चना व्यक्ति के प्रतीक बा आ भाँड़ कठिन कार्य के। भाँड़ के आरथ हाँडी होला। एगो चना से भड़भूजा के हाँडी ना फूटेला। सम्भव बा की ज्याद चना भुजला से फुट जाय, हाँड़ी जइसन विकृति सामजिक के फोड़े खातिर सामूहिक शक्ति के अपेक्षा बाटे । एक कहावत मे सामूहिक शक्ति या ऐक्यबल के महत्व के ओर संकेत बा।

अकेले कउनो काम कइल बड़ा मुश्किल होला लेकिन केहू के साथ मिल जाव त मुश्किल आसान हो जाला।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − six =