गरीबी

0
159

कामेश्वर भारती
कामेश्वर भारती

बाबु के लागल
बुखार मितवा।
मिले ना दवाई
उधार मितवा।
काढ़ा बनाइले
बाबु के पिआइले।
होखे ना तनिको
सुधार मितवा।
डाक्टर सरकारी
चलावे आपन क्लिनिक
लेके पगार मितवा।
बाबु के लागल
बुखार मितवा।
बिनु दवाई मर
जाले बाबु,
लिखल ईहे
लिलार मितवा।
गँउवा गिरावँ
के ईहे कहानी,
आजो “पथिक,
बा झोपरी
अन्हार मितवा।
बाबु के लागल
बुखार मितवा।

SHARE
Previous articleधरम
Next articleमलिकाईन आईल बाड़ी
जोगीरा डॉट कॉम भोजपुरी के ऑनलाइन सबसे मजबूत टेहा में से एगो टेहा बा, एह पऽ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के टटका ख़बर, भोजपुरी कथा कहानी, भोजपुरी किताब, भोजपुरी साहित्य आ भोजपुरी से जुड़ल समग्री उपलब्ध बा।

एह पोस्ट पऽ रउरा टिप्पणी के इंतजार बा।

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − 2 =