एह पागल मन के गहराई…

एह पागल मन के गहराई…

जे दूर रहे, उ पास रहल
हर दम ओकरे,एहसास रहल

दू जिस्म रहे, एक साँस रहल
होठवा पे अइसन,प्यास रहल

जे पास बा, उ खास ना
ओकरा खातिर,एहसास ना

उ प्यार करे, फिर भी बात ना
ओकर बोली, बरदास ना

उ चली जाई, फिर याद आई
अंखिया फिर, आशु छलकाई

बितल बतिया, फिर दोहराई
के समझत बा, के समझाई

एह पागल मन के गहराई…

‘प्रवीण’

रउवा खातिर:
भोजपुरी मुहावरा आउर कहाउत
भोजपुरी शब्द के उल्टा अर्थ वाला शब्द
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पहिलका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : दुसरका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : तिसरका दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : चउथा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पांचवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : छठवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : सातवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : आठवाँ दिन

ध्यान दीं: भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े खातिर जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =