संजय कुमार ओझा जी के लिखल भोजपुरी कविता प्रीत के रीत

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव संजय कुमार ओझा जी के लिखल भोजपुरी कविता प्रीत के रीत (Bhojpuri Kavita) , रउवा सब से निहोरा बा कि पढ़ला के बाद आपन राय जरूर दीं, अगर रउवा संजय कुमार ओझा जी के लिखल भोजपुरी कविता अच्छा लागल त शेयर आ लाइक जरूर करी।

अखियां में रखनी तोहे कजरा बनाई के,
माथे लग‌इनी, लोग से गजरा बताई के !
तुड़ी दिहलू भरम के धागा एक झटके में,
चीर दिहलू करेजा, तूं करेजा में जाई के !!

रतिया नींदो ना आवे, दिन के चैनो गईल,
अब तऽ काटल जिनिगियो ई दूभर भईल !
कबो देखनी सपनवा तोहके चंदा समझ,
खिलल ललको गुलाब अब उजर भईल !!

हम त पत्थर पर खींचनी लकीर प्रीत के,
तू तऽ बुझीयो ना प‌इलू प्रीत का रीत के !
हम तूड़ी दिहनी सब, आज बंधन आपन,
तूं तऽ बहरो ना अईलू चांदी का भीत के !!

तुहीं बताव विश्वास भला कोई क‌इसे करी,
अपना जान का आगे, जान क‌इसे धरी !
हम त लूटा दिहनी सब कुछ तोहरे नाम पर,
बूतल दियना अब ‘संजय’ भला क‌ईसे जरी !!

संजय कुमार ओझा
गांव + पोस्ट – धनगड़हां,
जिला – छपरा, बिहार

Watch old bhojpuri movie with jogira.com

रउवा खातिर:
भोजपुरी मुहावरा आउर कहाउत
देहाती गारी आ ओरहन
भोजपुरी शब्द के उल्टा अर्थ वाला शब्द
जानवर के नाम भोजपुरी में
भोजपुरी में चिरई चुरुंग के नाम

इहो पढ़ीं
भोजपुरी गीतों के प्रकार
भोजपुरी पर्यायवाची शब्द – भाग १
भोजपुरी पहेली | बुझउवल
भोजपुरी मुहावरा और अर्थ
अनेक शब्द खातिर एक शब्द : भाग १
लइकाई के खेल ओका – बोका
भोजपुरी व्याकरण : भाग १
सोहर

ध्यान दीं: भोजपुरी फिल्म न्यूज़ ( Bhojpuri Film News ), भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े  जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं।

Leave a Reply