काँच ही बाँस के बहँगिया, बहँगी लचकत जाय

काँच ही बाँस के बहँगिया, बहँगी लचकत जाय…
स्वर: कल्पना पटवारी

Leave a Reply