विद्या शंकर विद्यार्थी जी के लिखल भोजपुरी गजल आ गीत

भोजपुरी के बढ़िया वीडियो देखे खातिर आ हमनी के चैनल सब्सक्राइब करे खातिर क्लिक करीं।

परनाम ! स्वागत बा राउर जोगीरा डॉट कॉम प, आयीं पढ़ल जाव विद्या शंकर विद्यार्थी जी के लिखल भोजपुरी गजल आ गीत, रउवा सब से निहोरा बा कि पढ़ला के बाद आपन राय जरूर दीं, अगर रउवा विद्या शंकर विद्यार्थी जी के लिखल अच्छा लागल त शेयर आ लाइक जरूर करी।

हे रामजी बताईं

जेकरा के पास लगलीं उहे घिना गइल
हे रामजी बताईं कइसन दिन आ गइल ।

कहेला लोग कि बेटा कामे आई जीवन में
काँपे लागी जब हाथ त थाम्हे आई जीवन में
भइल बाकि सब उलुटा जामल घिना गइल,
हे रामजी बताईं कइसन दिन आ गइल ।

टटका देलीं जेकरा के से देला बसिआइन
बोली में लस ना बाटे बोलेला बिखिआइन
कसूर ना रहल तबो कसूर गिना गइल,
हे रामजी बताईं कइसन दिन आ गइल ।

लोर के भँवर में नइया परी ना जनलीं हम
लोग कहल कि चेतऽ कहल ना मनलीं हम
सुख के बिनलीं खाटी दुख के बिना गइल,
हे रामजी बताईं कइसन दिन आ गइल ।

माई के दूध पीअलस माइओ के ना भइल
हर के ना भइल तऽ हराइओ के ना भइल

विद्या शंकर विद्यार्थी जी
विद्या शंकर विद्यार्थी जी

जिनिगी के रास्ता में सपना धुआँ गइल,
हे रामजी बताईं कइसन दिन आ गइल ।

अन्हार के घेरा के अब तूर रहल बा आदमी

अन्हार के घेरा के अब तूर रहल बा आदमी
भूखाइल सबेरा के जरूर रहल बा आदमी

अभाव के जिनगी में कइसे केहू लिही साँस
मारल कवनो फेरा के जरूर रहल बा आदमी

बतावता आग दब के रहल तितिकी नियन
आह के दर्द में हेरा के जरूर रहल बा आदमी

अदिमिये बा अदिमी के अधिकार छिन लिहले
एतना दिन ले डेरा के भरपूर रहल बा आदमी

भेदे के आ गइल कला अब चक्रव्यूह के बाटे
एतना दिन से पेरा के जरूर रहल बा आदमी ।

जोगीरा डॉट कॉम पऽ भोजपुरी पाठक सब खातिर उपलब्ध सामग्री

ध्यान दीं: भोजपुरी फिल्म न्यूज़ ( Bhojpuri Film News ), भोजपुरी कथा कहानी, कविता आ साहित्य पढ़े  जोगीरा के फेसबुक पेज के लाइक करीं।

Leave a Reply